ब्लॉगिंग (Blogging)

ब्लॉगिंग सीखने एवं अन्य संबंधित ज्ञान के लेखों को इस Blogging वाले टॉपिक में बनाया जाएगा।

3 स्टेप में, वेबसाइट बनाएं !

दोस्तों अब इंटरनेट का ज़माना चल रहा है। स्मार्टफोन और नई टेक्नोलॉजी को दुनिया आगे बढ़ती जा रही है। गूगल पर हर रोज़ लाखो करोड़ों लोग कुछ न कुछ सर्च करते है। वेबसाइट भी उन्ही में से एक है। जब आप गूगल पर कुछ भी खोजने है, उसके बाद आप जिस भी वेबसाइट पर पहुंचते और वहा कुछ न कुछ पढ़ते है। वह किसी वेबसाइट के द्वारा ही डाला जाता है।

आप जिस जगह पर ये कंटेंट पढ़ रहे, यह भी वेबसाइट है। यदि आप भी अपनी वेबसाइट बनाना चाहते है। और महीने के हजारों, लाखों रुपए कमाना चाहते हैं। तो आप हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। क्योंकि हम आपको वेबसाइट बनाने का आसान तरीका बताने वाले है💝।

किसी वेबसाइट बनाने के लिए मुख्य रूप से दो चीजों की जरूरत होती है 1) होस्टिंग 2) डोमेन नाम। दोस्तों जब आप इन दोनो को खरीदते है। उसका चार्ज देना होता है।

नोट : किसी भी वेबसाइट के बनाने में चार्ज लगता है। इसका चार्ज लगता है। यह चार्ज लगभग 1 वर्ष का 5000 रुपए रहता है।

💖कभी कभी इसमें Discount भी मिलता है। और यह सिर्फ 1 से 2 दिन का ही Discount होता है। इसलिए जब भी आपको डिस्काउंट में होस्टिंग मिल रही हो आप जल्दी से जल्दी खरीद लें।

विशेष : जब आप होस्टिंग खरीदते है। आपको 24×7 सपोर्ट मिलता है। फिर भी यदि आप वेबसाइट को नहीं चला पाते है। तो आप चाहे तो 30 दिन में अपने पैसे रिफंड कर सकते हैं। बिना किस हिचकिचाहट के। इसलिए आपके पैसे की चिंता न करें। आज ही अपनी वेबसाइट के वर्क को सीखने और बनाने का प्रयास करें💝।

आप जितने भी समय की होस्टिंग खरीद लेते है, तो वह आप पास उतने समय के लिए मौजूद हो जाती है। और समय समाप्त होने पर दोबारा खरीना पढ़ता है।

तो अब वेबसाइट बनाने के तरीके को जान लेते है। जो की तीन स्टेप में कंप्लीट हो जायेगा।

“दुनिया जो इतनी तेजी से बदल रही है,
केवल एक निर्णय जिसका फ़ैल होना तय हैं।
वो है रिस्क न लेना”

दोस्तों समय न गवाएं, जल्दी से जल्दी इस इंटरनेट की दुनिया में अपनी वेबसाइट बना लें। यदि ऑफर मिले तो।

तीन स्टेप में वेबसाइट बनाए।

1. होस्टिंग खरीदें

hostinger hosting primium

[ आप हमारे साथ स्टेप को फॉलो करते चले। आपके पैसे कही नही जायेंगे, आप 30 दिन के भीतर अपना 100% रिफंड वापस पा सकते हैं। ]
Hostinger.in वेबसाइट पर जाएं. (Offer Check करें)
कुछ नीचे स्क्रॉल करे,
वहा से आप प्रीमियम वेब होस्टिंग चुनें.
 वहां से आप प्रीमियम वेब होस्टिंग को Add to Cart करें.
यहां आप 12 महीने के प्लान को चुने.
नीचे अपनी जीमेल या गूगल या फेसबुक से खाता तैयार करें।
UPI यानी Google pay, PhonePe या PayTm से पेमेंट Complete कर दें।
होस्टिंग खरीदने को प्रक्रिया पूरी हुई. [Hosting खरीदने के बाद से ही आप 24×7 सपोर्ट पा सकते है]

“क्यूंकि आज नहीं तो और कभी,
करेंगे लोग गौर कभी,
लगे रहो बस रुकना मत,
आयेगा तुम्हारा दौर कभी।”

होस्टिंग खरीदने का बाद यदि आपको कोई प्राब्लम आ रही हम तो हमे मेल या कॉमेंट कर सकते हैं। वैसे कोई समय नहीं आयेगी 100% सिक्योर रहे!

2. डोमेन रजिस्टर

[समस्या आने पर 24×7 कभी भी स्पोर्ट पाए]
आपने होस्टिंग ले ली है, उसके बाद की प्रक्रिया डोमेन रजिस्टर् करें.
उसके लिए आपका यही hostinger.in पर उसी Gmail account से लॉगिन करें.
और ऊपर राइट साइड मैनू से डोमेन ऑप्शन क्लिक करें.
अपनी पसंद का डोमेन नाम जैसे (example.com) कुछ भी.
यहां से रजिस्टर करें.
डोमेन रजिस्टर प्रक्रिया भी पूरी हुई.

“बदल जाओ वक्त के साथ या वक्त बदलना सीखो,
मजबूरियों को मत कोसो हर हाल में चलना सीखो।”

3. इंस्टाल वर्डप्रेस और पोस्ट लिखना

[हम और हमारी टीम आपके साथ है आपके द्वारा लगाए गए पैसे 30 दिन में वापस करवा दिए जायेंगे। यदि आप चाहेंगे तो।]

hostinger auto installer
जब आप hostinger.in से डोमेन रजिस्टर् करें।
तब आपको टॉप राइट मैनू में होस्टिंग ऑप्शन क्लिक करें।
यहां आपको कुछ नीचे Auto Install ऑप्शन मिलेगा.
उसमे WordPress का चयन करें.
यहा आपके Domin नाम, यूजर नेम और पासवर्ड लिखें.
इसके बाद आप WordPress इंस्टॉल क्लिक करें.
उसके बाद आपकी वेबसाइट तैयार है।
अपनी पोस्ट लिखने के लिए वर्डप्रेस लॉगिन करें।
लॉगिन के लिए example.com/wp-admin ब्राउजर में टाइप करे।
यहां अपना यूजर नाम और पासवर्ड से लॉगिन करें।
इसके बाद आप टॉप लेफ्ट साइड में पोस्ट ऑप्शन से नई पोस्ट लिखे।
यहां से वेबसाइट को कंट्रोल करने की पूरी सेटिंग कर पाएंगे।
लीजिए आपकी वेबसाइट तैयार है।

“आँखों में मंजिले थी, गिरे और सँभलते रहे।
आंधियों में क्या दम था, चिराग हवा में भी जलते रहे।”

अभी आप hostinger.in पर जाएं। और ऑफर मिले तो लाभ उठाए । क्योंकि आप कही सुनहरा मौका न खो दें।

“लगे रहो बस रुकना मत,
आयेगा तुम्हारा दौर कभी।”

आपने वेबसाइट बनाना सीखा , आशा करते है आप ने अपनी वेबसाइट आसानी से बना ली होगी । फिर भी कोई समस्या आ रही को तो आप हमारे से संपर्क या कॉमेंट करें।

वेबसाइट कैसे बनाएं – How to start website in hindi

[ब्लॉग या वेबसाइट कैसे बनाएं] How to start blog OR website in hindi

आज के इस समय में इंटरनेट का जमाना है। हर कोई इंटरनेट पर कुछ न कुछ सर्च अवश्य करता ही हैं। इस समय अपने कभी सोचा की जिस वेबसाइट पर आप जाकर पढ़ते है। वे किसी न किसी ने तो बनाई होगी। जीहां यदि आपने अभी तक ऐसा भी सोचा तो अब आपके दिमाग में ये सवाल उड़ने लगाएगा। और जैसे जैसे इस पोस्ट को आगे पढ़ते जाओगे आपको और भी ज्यादा जानने की जिज्ञासा जागृत होगी।

अपना खुद का [ब्लॉग या वेबसाइट कैसे बनाएं] – How to start blog OR website in hindi

लेकिन आगे बढ़े उससे पहले ही आपको आगाह कर दे की किसी भी तरह से आपको लगे कि हमसे संपर्क करना चाहिए तो आप हमसे संपर्क अवश्य करे। ताकि हमारी टीम आपकी समस्याओं को सुलझा सकें।

तो दोस्तों अब हम अपने टॉपिक पर आते है, जिसके बारे ने अपने हम बात कर दे थे की जो वेबसाइट पर जाकर हम जानकारी पढ़ते है वो किसकी होगी। तो दोस्ती हम आपको बता दें की ये भी आप हम जैसे लोगों की वेबसाइट रहती है।

आप भी वैसी खुद की वेबसाइट बना सकते है। वो भी अपने खुद के दम पर और अब बात आती है की वेबसाइट से फायदा क्या होता होगा। तो आपको बता दें की उससे आप कमाई भी कर सकते हैं। वेबसाइट कमाई के कई तरीके है। खैर अभी हम उन तरीको की बात नही करेंगे । वो आपको किसी अन्य पोस्ट में बता देंगे

लेकिन आप हम आपको बता दें की इस पेज को यदि पूरा पढ़ लिया तो आप इतना तो पक्का है की आप अपनी खुद की वेबसाइट बना लेंगे। और अच्छी कमाई भी कर सकेंगे।

हम आपको बता दें की धीरे धीरे समझने का प्रयास करे क्योंकि हमारा ये पेज बढ़ा हो सकता है, लेकिन आपको उतना विश्वास दिलाते है, की आप अपनी खुद की वेबसाइट ब्लॉग जरूर बना पाएंगे।

नीचे हम कुछ चरण बताने वाले है जिन्हे क्रम से पढ़े और फिर भी कोई सलाह चाहिए तो कॉमेंट करें या संपर्क करें

आपको बता दें की आपका खुद का ब्लॉग वेबसाइट बनाने के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बार ज्यादा से ज्यादा 15 मिनट लगेंगे।

वेबसाइट कैसे बनाएं

Step 1. टॉपिक का चयन

आपको सबसे पहले अपने टॉपिक का चयन करना होगा। जिस पर आप वेबसाइट बनाना चाहते हैं। जैसे की आपको “Health And Fitness” का सोक है और आप उस पर पोस्ट लिख सकते हो । तो आपको उसी चयन करके दिमाग में रख लेना है। बाद ने काम आयेगा। आप किसी भी टॉपिक पर वेबसाइट बना सकते है जो आपको इंटरेस्टेड लगे और जिस पर आपको लिखने में अच्छा लगे।

और जब आप एक ही टॉपिक पर कई सारे अलग अलग पोस्ट लिखते हो तो आपकी वेबसाइट को लोगो के बीच विश्वास बढ़ेगा और आपकी कमाई भी अधिक होगी।

[नोट – यदि आप हमारे किसी लिंक से होस्टिंग लेते है तो कृपया हमे gonewzy@gmail.com पर बता सकते है ताकि हम आपको अतिरिक्त सुविधाए मुफ्त में आप तक पहुंचा सकें।]

Step 2. Domain & Hosting चयन

अब जब आप मन बना ही चुके हो को खुद की वेबसाइट बनाना है। तो हम आपको बता दें की उसके लिए आपको एक डोमेन और होस्टिंग की जरूरत होगी। वैसे आपको बता दें की डोमेन की कीमत लगभग ₹1000 तक होती है। लेकिन हम आपको मुफ्त में डोमेन दिलवाने वाले है, यदि आप हमारे किसी लिंक से होस्टिंग खरीदते है। अब होस्टिंग के बार करे तो हमने आपके लिए नीचे एक होस्टिंग कंपनी का लिंक दिया है वह से जाकर होस्टिंग ले सकते है।

अब हम आपको बताते है की वेबसाइट के लिए डोमेन और होस्टिंग कैसे लें।

नीचे के चरण को स्टेप से करते चले और डोमेन और होस्टिंग buy करने के प्रक्रिया को पूरा करें। आप अभी नया ब्लॉग वेबसाइट बना रहे है इसलिए हम आपको Hostinger के Premium Web Hosting प्लान लेने के लिए कहेंगे क्योंकि वह सस्ता और नए ब्लॉगर्स के लिए अच्छा प्लान है। आगे के Process नीचे है  –

• आप सबसे पहले इस लिंक- https://www.hostg.xyz/SH8Wm के द्वारा Hostinger की Official website पर जाएं! या नीचे के इमेज पर क्लिक करके Hostinger Official वेबसाइट पर पहुंचे।

Hosting Hostinger best offer today

• जब आप सफलता पूर्वक हमारे विशेष लिंक या इमेज पर क्लिक करके Hostinger पर पहुंच जाए । तब आपके सामने नीचे के इमेज जैसे पेज ओपन होगा।

hosting Hostinger hone page login

• ऊपर के इमेज में बताए अनुसार जब आप तीन लाइन जैसे मेनू पर क्लिक करें। और नीचे बनाए इमेज अनुसार Options खुलकर आयेंगे। उसमे Hosting पर क्लिक करें!

hosting Hostinger options

• ऊपर के इमेज ने बताए अनुसार जब आप होस्टिंग ऑप्शन पर क्लिक करते है। आपके सामने नीचे जो इमेज बताई गई है उस जैसे कई Options दिखाई देंगे । उनमें से Shared Web Hosting पर क्लिक करें! और नया पेज ओपन हो जायेगा।

hosting Hostinger shared web hosting options

• जब नया पेज ओपन हो जाए तो पेज को कुछ Scroll करने पर आपको उनमें होस्टिंग के तीन प्लान (Single Web Hosting, Premium Web Hosting और Business Web Hosting दिखाई देंगे।

• अगर आप बिलकुल ही नए है। आपको ज्यादा जानकारी नहीं है की कौनसे प्लान को चयन करें तो हम आपको बताते है की आप यहां Premium Web Hosting को चुने। जैसा नीचे इमेज में बताया गया है।

Hostinger hosting choose your web hosting plan page

• Premium Web Hosting प्लान के नीचे जो Add To Cart दिख रहा है उसे क्लिक करें।

Add To Cart पर क्लिक करने पर आपके सामने एक नया पेज आयेगा। उसमे आपको कुछ महीने के अनुसार Offers और प्लान मिलेगा। आप अपने अनुसार कुछ भी  सिलेक्ट कर सकते है। यदि आप समझ नही पा रहे है । तो आपको हम 24 महीने वाले को सिलेक्ट करके का सुझाव देंगे।

Hostinger Hosting buy page payment

• जब आप 24 महीने का प्लान चुन ले उसके बार दूसरा ऑप्शन Create your account दिखेगा। उसने आप gmail से या डायरेक्ट Google के Logo पर क्लिक करके, अपने जीमेल Id से पर क्लिक कर ले।

• जब आप ये कर ले उसके बाद Select payment के कई ऑप्शन है। उनमें से आप किसी का भी इस्तेमाल करके यह पेमेंट कर दें। हम UPI को चुनते है।

• उसके बाद जब आप Submit Secure Payment पर क्लिक करते है। तो आपका Address, City और आपका State का चयन करने के बाद Continue Payment पर क्लिक करना है। और Google Pay या Phone Pe से अपना Payment कर देना है।

[सूचना – अपने सफलता पूर्वक पेमेट कर दी है और आगे के प्रोसेस आपको समझ नही आ रहे है। तो आप हमसे मेल करके समझ सकते है।]

Step 3. Website & Domain Setup

• जब आप सफलता पूर्वक अपना Payment कर देते है  आपको दोबारा Hostinger वेबसाइट पर आ जाना है और उसी Gmail iD से Login कर लेना है।

• अब यह लॉगिन करने के बाद आपके सामने ऑप्शन जाएगा इस पर आपके Claim free Domain कही मिलेगा वहा से आप अपना डोमेन को मुफ्त में ले सकत है। एक बार डोमेन  रजिस्टर्ड की प्रोसेस पूरी हो जाए।

• तो फिर आपको होम पेज पर आ जाए।

Hostinger premium web hosting serup

• Setup पर क्लिक करके । न्यू पेज पर Start Now करें। यदि अपने ऊपर पहले ही होस्टिंग से मुफ्त डोमेन ले लिया है तो आप Use Existing Domin सिलेक्ट करे।

• उसके बाद आगे बढ़ जाए आपके सामने 2 ऑप्शन आयेंगे। उनमें से किसी पर भी सिलेक्ट न करे नीचे Skip, I will Start पर क्लिक करना है। और Finish setup पर क्लिक कर देना है। और नए ऑप्शन आयेंगा उनमें Skip कर देना है।

• उसके बाद कुछ देर रुखना है।

Step 4. Website Setup

• फिर Cantrol panel manage site पर क्लिक करना है।

• यदि अपना डोमेन रजिस्ट्रेशन हो गया है को कोई प्राब्लम नही अन्यथा आपके स्क्रीन को ऊपर नोटिफिकेशन शो हो जायगा।

• अब आपको दोबारा Hostinger होम पेज पर आ जाना है। और आपको होस्टिंग सर्विस के सामने Manage ऑप्शन दिखेगा । उस पर क्लिक करें।

Hostinger Home page login and manage option

• उसके बार आप Page को Scroll करें! नीचे Auto Installer का Option मिल जायेगा! इस पर Click कीजिये।

Hostinger manage auto installer website

• Auto Installer पर ओपन होने का बाद वहां आपको WordPress को Select कर लेना है।

Hostinger auto installer website wordpress click

• उसके बार आपके सामने एक अन्य ऑप्शन ओपन होंगा उसमे आपको लॉगिंग के लिए Website की जानकारी आने याददस्त अनुसार डाले जैसे user name और password.

Hostinger install WordPress Website username and password setup

Install WordPress

  1. आप जब ऑप्शन को चुन रहे हो उस टाइम Domain वाले बॉक्स में http:// में बदलाब न करे।
  2. एवं आपके डोमेन मान में भी बदलाव नही करना हैं।
  3. WordPress के सेक्शन में कुछ भी नही भरना है।
  4. Owerwrite Existing Files पर टिक लगा दे। ताकि कोई अलग से फाइल होगी तो वह हट जाएगी।
  5. Administrator Username पर आपको username वो डाले जिसे आप याद रख पाए।
  6. Administrator Password पर आपको username वो डाले जिसे आप याद रख पाए। एवं वह कठिन हो ताकि किसी अन्य को मिल न पाए।
  7. Administrator Email में आपको Gmail id लिखे ताकि आपको संबंधित अपडेट एवं पासवर्ड बगेरा भूलने पर दोबारा पाने हेतु जीमेल से पा सकें।
  8. Website Title बॉक्स में अपनी वेबसाइट जिस पर है उसको लिखे यह बाद में चेंज भी कर सकते है।
  9. Version और लैंग्वेज को कुछ भी बदलाब न करें।
  10. इसके बाद install के आप्शन पर टेप कर दीजिये।
  11. जैसे ही आप सभी install की प्रक्रिया के लिए कुछ देर रूखे लेकिन आप इस समय कुछ भी हटाना भी हैं। रूखे रहें।

अब आपको वेबसाइट बन चुकी है। बधाई हो!

Step 5. Website login

WordPress login करना चाहते हो तो आप डायरेक्ट url में अपनी वेबसाइट के नाम के आगे /wp-admin/ लिखे और खोजे या Enter करें।

उदाहरण के लिए मेरी वेबसाइट का नाम url ; https://gonewzy.com है जब मैं अपने वर्डप्रेस के डेकबोर्ड तक या पैनल को खोलना चाऊंगा में https://gonewzy.com/wp-admin/ लिखने के बाद इंटर हो जाऊंगा।

उसके बाद Administrator User name और Password डालकर WORDPRESS को login कर पाऊंगा।

Hostinger WordPress log in username and password

तत्पश्चात आप अपनी वेबसाइट पर पोस्ट लेख या अन्य पेज को लिख पाएंगे एवं थीम एवं अन्य कार्य इसी डेकबोर्ड के सहारे हर कार्य कर सकते हैं।

Step 6. Website theme setup

वर्डप्रेस वेबसाइट की थीम कैसे बदलें Website ki theme kaise change kare

वर्डप्रेस वेबसाइट की थीम कैसे बदलें Website ki theme kaise change kare

जब आप वर्डप्रेस वेबसाइट को बनाकर तैयार कर ले एवं जिसके डिजाइन को अपने अनुसार थीम में सजना चाह रहे हो। तो आपको अपनी वेबसाइट के थीम में चेंज करने की जरूरत पढ़ती है। नीचे थीम परिवर्तन के कुछ चरण निर्देश दिए है उन्हें स्टेप से अनुसरण कराते चलें –

  1. वर्डप्रेस वेबसाइट के डेसबोर्ड को लॉगिन करे मुख्य वर्डप्रेस डेसबोर्ड तक पहुंचे।
  2. उसमे Appriance ऑप्शन में जाए वहा Themes के ऑप्शन को चुने एवं की क्षण रूखे।
  3. नए पेज ओपन हो जाने पर Add New ऑप्शन के अनुसरण करे।
  4. अब आपको इसमें कई अलग अलग ऑप्शन जैसे Featured, Popular, Latest Favaroits and Feature Filters दिखाई पढ़ते है।
  5. इन सभी में से आप अन्य पसंदीद थीम को चुनाव करे एवं उसे ओपन करके install पर चुने।
  6. जैसे ही कुछ सेकंड्स में इंस्टॉल प्रक्रिया पूर्णता प्राप्त करे अब अब आप अपने थीम को Activate करने के लिए उत्सुक रहे।
  7. Activate करते ही आपको वेबसाइट उस नई थीम में बदल जायेगी तो लीजिए अब आपकी थीम बदल चुकी हैं।

नीचे हम आपको पोस्ट लिखने के कुछ चरण बता रहे है

Step 7. Post लिखना

वर्डप्रेस में पोस्ट कैसे लिखें WordPress me post kaise likhe

वर्डप्रेस में पोस्ट कैसे लिखें WordPress me post kaise likhe

  1. वर्डप्रेस वेबसाइट के डेसबोर्ड को लॉगिन करे मुख्य वर्डप्रेस डेसबोर्ड तक पहुंचे।
  2. WordPress में login करने के पश्चात आपको सबसे पहले डैशबोर्ड में Posts ऑप्शन दिखान देगा उसे चुने।
  3.  इसमें All Posts के नीचे Add New पर दवाएं।
  4. इसके बाद एडिटर ओपन हो जायेगा इसमें आप अपनी पोस्ट तैयार कर सकते हैं।
  5. एक अच्छा सा Title और इसके बारे में नीचे पोस्ट को लिखकर पूर्णता प्राप्त करें और पब्लिक करें।

तो दोस्तों अब आपकी खुद की वेबसाइट बनाकर तैयार हो चुकी है। आप इस पर पोस्ट लिखे और जैसे जैसे आप पोस्ट लिखते आपको अन्य जानकारी भी होती जायेगी।

जैसे की हमने आपको ऊपर होस्टिंग खरीदने के विशेष लिंक के बारे में बताया था वह नीचे भी है आप यहां से भी वहा तक पहुंच सकते है।

Hostinger Hosting Buy

जब आप होस्टिंग हमारे लिंक से खरीद लेते हों तो आप हमसे संपर्क करके या gonewzy@gmail.com पर मेल करके समझ सकते है।

आपको यदि लगता है कि हमारा यह पेज आपके लिए Helpful रहा होगा। आप एक काम जरूर करें की कोई अन्य दोस्त है जो अपनी वेबसाइट बनाना चाहता है तो उस तक आप इस पेज के लिंक को Share कर सकते हो!

Read – 

1. डोमेन नाम क्या है Domain name kya hai

2. मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है Mobile operating system kya hota hai in hindi

पढ़ने के लिए धन्यवाद!

वेब क्रॉलिंग क्या है Web crawling kya hai

वेब क्रॉलिंग क्या है – Web crawling kya hai

जब आप किसी वेबसाइट को बनाएं है उस समय इसे सर्च इंजन में रैंक करना थोड़ा मुस्कील होता है। चाहे हो गूगल सर्च इंजन हो या बिंग या याहू हो आपको SERPs (Search Engine Results Page’s) के पहले पेज तक रैंक करना जरूरी होता है। तभी आपकी वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक आता है।

इसलिए हम इसी में जो की क्रोलिंग की बेसिक प्रक्रिया है उसको जानने वाले हैं। और इस पेज पर जानेंगे की Web Crawling क्या है. Web Crawlers कैसे काम करती है? ऐसे कई सवाल को आप इस पोस्ट में जानने वाले है।

Web Crawling kya hai

आपको पता ही होगा की इस वर्ष में बहुत भारी मात्रा में इंटरनेट यूजर्स की संख्या बड़ रही है और आगे भी इसका ही जमाना आने वाला है। ऐसे में गूगल और बिंग दोनो ही खोज इंजन में अंदर रैंकिंग और Web Crawlers के तरीके को बदला जा रहा है, एवं उन्ही वेबसाइट को शीर्ष में दिखाया जा रहा जो यूजर्स को सही जानकारी मुहैया करा रही।

यदि आप गूगल के ब्लॉगर का इस्तेमाल कर रहे है और आप चाहते हो की वर्डप्रेस वेबसाइट की ओर बढ़े। लिखी आप होस्टिंग और डोमेन के लिए परेशान हो रहे की कहा से ले तो आप हमारे बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers के पेज को पढ़ सकते है। और फिर भआई आपको कोई समस्या आ रही है तो आप हमसे संपर्क करें ताकि आपको हमारी टीम सही होस्टिंग परचेज करने में सहायक हो।

आपको बता दे की जब आप अपनी वेबसाइट को Google में सबमिट या पब्लिक करते है। तो गूगल सबसे प्रथम कार्य आपकी वेबसाइट को Crawling द्वारा ही परखता है। और इस Crawling में आपके कंटेंट की भी जांच परख होती है।उसके बार गूगल आने निर्णय अनुसार SERPs (Search Engine Results Page’s) में आपके पोस्ट या पेज को रैंक करने प्रारंभ करती है।

यदि कोई भी वेस्ट सही रूप से Web Crawling के नियमों को पालन करती है और उस पर मौजूद हर पोस्ट को सही तरीके से क्रोल किया का रहा इसका मतलब के वह अच्छे से अपने Web Crawling को संभाले हुए है। अब नीचे हम आपको बताने वाले है की Web Crawling kya hota hai, आपके पोस्ट के SEO में Web Crawling क्या महत्व रखता है। Google के कौन से Ranking Factors Crawling करते है। ऐसे कई जानकारी के लिए अपना पढ़ना जारी रखे।

Web Crawling क्या है? 

जब भी इंटरनेट के सहारे गूगल पर कोई यूजर कुछ भी खोजता है । तो गूगल के बोट्स अपने Google server के database में संग्रहित सूचनाओं या अपडेट्स को यूजर के लिए निकलकर लाता है। ये सभी Relevant होते है। जो परिणाम यूजर्स के सामने दिखाई देते है इस समय की इस प्रक्रिया को Web Crawling कहते है। ओर जो जानकारी Search करते है, उन उपक्रम को Web Crawler , Spider या Bots बोलते है।

अन्य भाषा में Crawling का अर्थ है Particular रास्ते से अनुसरण करना । आप वेबसाइट पर जब वेब पेज पर किसी भी लिंक से जाते है चाहो वो Internal linking हो या External linking हो। तब Google के Web Crawler उन्ही के जरिए आपकी वेबसाइट तक पहुंच मार्ग बनते है। और Indexing प्रक्रिया हेतु उत्सुक रहते है। एक बार जब Indexing प्रोसेस पूरी हो जाती है तब SERPs में रैंक होना प्रारंभ हो जाता है।

अगर आप नवीन ब्लॉगर्स में से हो तो आपको अपनी रैंक में slow rank की समस्या होगी। उस समय आप Sitemap का अच्छे से बनाए क्योंकि इसमें आपके वेबसाइट के हर पेज के लिंक्स होते है। और गूगल के डायरेक्ट साइटमैप भी सबमिट कर सकते है।

SEO में Web Crawling क्या महत्व रखता है।

वेबसाइट का SEO का भाग बहुत जटिल है लेकिन फिर भी हम कुछ न कुछ हर किसी को आता है। SEO का मतलब है search engine optimization। जब आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के ऊपर SEO को गुणवत्ता वाला भाग निर्मित करते है तब आपको वेबसाइट उच्च परिणाम एवं Organic traffic को पाने में सफल रहती है।

Web pages को Crawling की स्थिति में गूगल के लिए ready कही जाती है। क्योंकि Website को रैंक कराने के लिए Crawling सबसे पहला स्टेप है।

आपको बता दें की किसी भी Pages की crawling अच्छी रहती है तब On Page SEO और Off Page SEO द्वारा व्यक्त करते है। यदि किसी पेज को क्रोलिंग नही करना हो उस समय आप No Index Meta Tag को इस्तेमाल करते है। Web Crawling में एस ई ओ और Crawlers दोनों रहकर काम करते है।

Web Crawlers कैसे काम करते है?

ऊपर की ओर अपने जाना की Google Crawling क्या है और SEO के अंदर क्या महत्व है। उसके बाद अब हम आपको Web Crawlers कैसे काम करते है उन्हें जानने की चेष्ठा करते है मान लीजिए की आप अपने किसी पेज को गूगल SERPs टॉप पर रैंक कर रखी है। उस पर दैनिक रूप से visitors आते है। और उससे आपके web pages को अच्छे खासे विजिट्स मिलते है।

ऐसे में जब कोई नए विजीटर्स को आपके अलावा अच्छा कंटेंट मिलता है तो वह इसे वह पर रैंक करने के लिख अभी कभी परिणामों में शमिल करते है। जिसके बाद यूजर्स के अच्छे अवसर मिलने से एवं वह रैंक होने के चांस राहत है। इसके लिए Google Search Engine पर उपलब्ध एवं सबमिट करना एवं अपने पुराने pages को जब आप अपडेट करता है Crawlers इस समय जिम्मेदार से कंटेंट की जांच करते है।

और अपने crawler crawling की साधारण प्रक्रिया को प्रारंभ करते है। Web crawler search queries के Google Search Console सबमिट यूआरएल के अनुसार ही मुख्य relevant pages को आपस में कंपेयर करके रैंक अनुसार जमाया जाता है।

यदि अभी भी आपको समझ नही आ रहा है तो कोई बात नही एक उदाहरण से बताते है। मान लो कोई User गूगल के खोज इंजन में टाइप करता है की “गूगल किस देश की कंपनी है” । तो उसी समय Web Crawlers “गूगल किस देश की कंपनी है” के जैसे रिलेटेड पेज के Meta Description, Heading (H1, H2), Hyperlink, Passage Indexing आदि में search करना प्रारंभ कर देता है। और जो परिणाम एकदम relevant होता है उन्हें आपके सामने क्रम से प्रस्तुत करता है। Google उन्ही परिणामों को user को दिखाता है Web Spiders के यह क्रिया बहुत कम समय में या यू कहे की मिनी सेकंड्स में परिणाम दिखाने होते है। इसलिए web page Crawl करने का मान कंटेंट पब्लिक होने के समय ही करवा लिया जाता है। और उसे particular जगह एवं कीवर्ड पर जगह प्रदान कर दी जाती है। आपको बता दें की जब भी page की Crawling करने के बाद फिर कब उस Updated web page को crawling करना यह सब policy पर निर्भर करता है।

Crawling के कुछ Ranking तथ्य

Ranking में Crawling को कैसे Affect करते है और ये तथ्य आपकी वेबसाइट को प्रभावित रूप से कार्य करने में मदद प्रदान करते है। जैसे की आपको तो तक है की इंटरनेट पर कई millions वेबसाइट उपलब्ध है। लेकिन websites Google के Crawling और Indexing उन्ही को करता है जो बहुत ही यूनिक और रिलीवेट हो। आपको यह जानकर दुख हो सकता है की अधिकतर नए लोग अपना अनुभव को ज्यादा समान तक न रखकर वे सिर्फ 3 से 4 महीने में अपने वेबसाइट को बंद कर देने है । उन्हें लगता है की अब कुछ नही हो पाएगा । लेकिन यह उनकी गलती है। वे अपने websites search engine result page पर rank ही नहीं कर पाते है। आपको बता दें की उन्हें हमारे ये कुछ नीचे दिए गए Ranking Factors पर कार्य करने की जरूरत है जिसके बाद आप गूगल के परिणामों ने आपकी वेबसाइट दिखाई देना प्रारंभ कर देंगी। ये कुछ नीचे है –

1. XML Sitemap

यदि आप किस वेबसाइट को WordPress पर बनाते है उस समय XML Sitemap जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। आप जब एक बार सही Sitemap generate कर लेता है उस समय आपको कुछ बदलाब या साइटमैप की छेड़खानी नही करना है। यह Automatic update होता रहता है।

और आपको बता दें की Website update सभी होने से Web crawlers sitemap को आसानी से crawl और रैंक करने में मदद करते है।

2. Robots.txt

आपके वर्डप्रेस पर Robots.txt file को जरुर तैयार करे एवं अपने क्योंकि यह सभी Web crawlers को सही रूप से आदेश देती है। किसी किस किस पेज को या पोस्ट को bots द्वारा अनुमति दी गई है। Neil Patel का यह मानना है की Bots से ही Crawling का कार्य होता है। कोई भी Bots या crawler सबसे पहले इसी फाइल के अनुसार करती है। जब इसका आभाव होता है तो उस समय वह अपने हिसाब से क्रोलिंग प्रक्रिया करते है।

3. Internal Linking

जब आप अपने पोस्ट को किसी अन्य पोस्ट के साथ लिंक द्वारा जोड़ा जाता है । तो वह Internal Linking होता है। आपको बता दें की इसे deep Linking भी बोलते है। जब crawlers आपके पोस्ट को crawl कर रहे हो एवं उसमे आने वाली लिंक्स के भी अनुसरण करके संबंधित पेजेस तक पहुंचते है। जिससे उन्हें भी रैंक मिलती है।

जब रैंक मिलती है तो ट्रैफिक भी बढ़ता है। और वेबसाइट पर विजीटर्स एवं क्रेलर के विश्वास को भी जीता जाता है।

4. Backlinks

जब आप अपनी वेबसाइट के लिए किसी अन्य वेबसाइट से लिंक लेते है तो आपको Backlinks मिलते है। जिससे आपकी साइट की value बढ़ती है।

कभी कभी आपकी वेबसाइट पर कोई भी backlinks का न होने से भी आपकी website Search Engine में रैंक नही हो पाती है।

Web Crawling kya hai: निष्कर्ष

आपने यह पेज पर Web Crawling kya hai ? के संबंध ने कई सारे शब्दों में तथ्यों के अनुसार किए। यह आपको कैसा लगा कॉमेंट में बताए एवं अन्य दोस्तों को भी पहुंचाए। ताकि वे भी Web Crawling को जान सके। क्योंकि आज कल इंटरनेट पर हर कोई खोजता रहता है।उन्हें ऐसे ज्ञान होना जरूरी रहता है।

होस्टिंगर पर वर्डप्रेस वेबसाइट कैसे बनाएं Hostinger par WordPress Website kaise banaye

How To Create A WordPress Website in Hindi. होस्टिंगर पर वर्डप्रेस वेबसाइट कैसे बनाएं

वर्डप्रेस वेबसाइट को ऐसे होस्टिंगर को की होस्टिंग पर कैसे इंस्टाल करते है ये आज हम इस पेज पर जानने वाले हैं। लेखन उससे पहले बता दें की होस्टिंगर की होस्टिंग को आप कैसे और कौनसे प्लान का चुनाव करना चाहिए ये सभी होस्टिंग होस्टिंगर रिव्यू (Hostinger Review) वाले पोस्ट में बताया हुआ है।

तो दोस्तों अब हम आपको बिना किसी समय बरवाबाद किए WordPress को install कैसे करते है एवं WordPress पर वेबसाइट कैसे बनाते है।

Hostinger WordPress Website kaise banaye, होस्टिंगर पर वर्डप्रेस वेबसाइट कैसे बनाएं Hostinger par WordPress Website kaise banaye

अपने बेवसाइट बनाने हेतु आपको सबसे पहले एक डोमेन और एक अच्छा होस्टिंग प्लान चुनना चाहिए। और इसको कनेक्ट करना भी पढ़ता है। जब आप Domain को होस्टिंग से जोड़ने या कनेक्ट कर लेने के बाद वर्डप्रेस को इनस्टॉल करने के लिए चयन विशेष है।

WordPress Install Kaise Kare

WordPress Installation की प्रोसेस Hosting के अनुभव पर अनुसरण करती है, क्योंकि हर कंपनी के होस्टिंग डैशबोर्ड को अलग अलग रूप में तैयार किया जाता है।  इसलिए हर होस्टिंग की में WordPress Installation प्रोसेस भिन्न हो सकती है।

यह हमारी टीम द्वारा Hostinger की होस्टिंग पर WordPress install करने के कुछ चरण नीचे दिए है।क्योंकि हमारी ये वेबसाइट भी इसी तरह इसी पर होस्ट की गई है। इसलिए हम इसी पर WordPress बनाना सीखते हैं।

Step 1

आप जब होस्टिंग की किसी भी होस्टिंग प्लान को चयन करके परचेज कर लेते है तो उसके बाद आपको Hostinger के मुख्य पेज पर लॉगिन कर लेना है। जैसे ही आप होम पेज पर रहते है तो आपको आपको परचेज की गई होस्टिंग नजर आएंगे इस पर आपको Manage के ऑप्शन पर क्लिक करना है।

Hostinger Home page login and manage option

Step 2

आप जैसे ही Manage ऑप्शन को खोलने नया पेज आयेगा उसमे आपको डोमेन का नाम दिखाई देगा। Domain Name select करें और आप उस डोमेन को चूने जो आप यह चुनना चाहते हैं।

Step 3

डोमेन सिलेक्ट करने पर कुछ स्क्रॉल करे आपको एक ऑप्शन Auto Installer दिखेगा इसको चुने। और आगे बढ़ने के लिए दवाएं।

Hostinger manage auto installer website

यह से आप WordPress Installation को शुरू कर पायेंगे । Auto Installer में आने के बाद आपके सामने कई सारे ऑप्शन आने वाले है  उनमें से WordPress को सिलेक्ट करे या चुने।

Hostinger auto installer website wordpress click

Step 4

उसके बार आपके सामने एक अन्य ऑप्शन या विंडो ओपन होंगी उसमे आपको लॉगिंग के लिए Website की जानकारी आने याददस्त अनुसार डाले जैसे user name और password.

Hostinger install WordPress Website username and password setup

Install WordPress

  1. आप जब ऑप्शन को चुन रहे हो उस टाइम Domain वाले बॉक्स में http:// में बदलाब न करे।
  2. एवं आपके डोमेन मान में भी बदलाव नही करना हैं।
  3. WordPress के सेक्शन में कुछ भी नही भरना है।
  4. Owerwrite Existing Files पर टिक लगा दे। ताकि कोई अलग से फाइल होगी तो वह हट जाएगी।
  5. Administrator Username पर आपको username वो डाले जिसे आप याद रख पाए।
  6. Administrator Password पर आपको username वो डाले जिसे आप याद रख पाए। एवं वह कठिन हो ताकि किसी अन्य को मिल न पाए।
  7. Administrator Email में आपको Gmail id लिखे ताकि आपको संबंधित अपडेट एवं पासवर्ड बगेरा भूलने पर दोबारा पाने हेतु जीमेल से पा सकें।
  8. Website Title बॉक्स में अपनी वेबसाइट जिस पर है उसको लिखे यह बाद में चेंज भी कर सकते है।
  9. Version और लैंग्वेज को कुछ भी बदलाब न करें।
  10. इसके बाद install के आप्शन पर टेप कर दीजिये।
  11. जैसे ही आप सभी install की प्रक्रिया के लिए कुछ देर रखे लेकिन आप इस समय कुछ भी हटाना भी हैं। रूखे रहें।

Step 5

जब Install प्रक्रिया कुछ समय से कंप्लीट ही जाते तक आपको Domain name, Auto Installer वाले सेक्शन एमएस आपका अपनी वेबसाइट खुल जायेगी।

इस पेज से आप वर्डप्रेस पर जाकर डैशबोर्ड तक पहुंच कर आगे की प्रक्रिया में wordpress का login पेज आ जायेगा। यह आप यूजर नेम और पासवर्ड से अंदर प्रवेश कर पाएगा।

WordPress वेबसाइट में login कैसे करते है?

WordPress login करना चाहते हो तो आप डायरेक्ट url में अपनी वेबसाइट के नाम के आगे /wp-admin/ लिखे और खोजे या Enter करें।

उदाहरण के लिए मेरी वेबसाइट का नाम url ; https://gonewzy.com है जब मैं अपने वर्डप्रेस के डेकबोर्ड तक या पैनल को खोलना चाऊंगा में https://gonewzy.com/wp-admin/ लिखने के बाद इंटर हो जाऊंगा।

उसके बाद Administrator User name और Password डालकर WORDPRESS को login कर पाऊंगा।

Hostinger WordPress log in username and password

तत्पश्चात आप अपनी वेबसाइट पर पोस्ट लेख या अन्य पेज को लिख पाएंगे एवं थीम एवं अन्य कार्य इसी डेकबोर्ड के सहारे हर कार्य कर सकते हैं।

> डोमेन क्या होता हैं।

वर्डप्रेस वेबसाइट की थीम कैसे बदलें Website ki theme kaise change kare

वर्डप्रेस वेबसाइट की थीम कैसे बदलें Website ki theme kaise change kare

जब आप वर्डप्रेस वेबसाइट को बनाकर तैयार कर ले एवं जिसके डिजाइन को अपने अनुसार थीम में सजना चाह रहे हो। तो आपको अपनी वेबसाइट के थीम में चेंज करने की जरूरत पढ़ती है। नीचे थीम परिवर्तन के कुछ चरण निर्देश दिए है उन्हें स्टेप से अनुसरण कराते चलें –

  1. वर्डप्रेस वेबसाइट के डेसबोर्ड को लॉगिन करे मुख्य वर्डप्रेस डेसबोर्ड तक पहुंचे।
  2. उसमे Appriance ऑप्शन में जाए वहा Themes के ऑप्शन को चुने एवं की क्षण रूखे।
  3. नए पेज ओपन हो जाने पर Add New ऑप्शन के अनुसरण करे।
  4. अब आपको इसमें कई अलग अलग ऑप्शन जैसे Featured, Popular, Latest Favaroits and Feature Filters दिखाई पढ़ते है।
  5. इन सभी में से आप अन्य पसंदीद थीम को चुनाव करे एवं उसे ओपन करके install पर चुने।
  6. जैसे ही कुछ सेकंड्स में इंस्टॉल प्रक्रिया पूर्णता प्राप्त करे अब अब आप अपने थीम को Activate करने के लिए उत्सुक रहे।
  7. Activate करते ही आपको वेबसाइट उस नई थीम में बदल जायेगी तो लीजिए अब आपकी थीम बदल चुकी हैं।

नीचे हम आपको पोस्ट लिखने के कुछ चरण बता रहे है

वर्डप्रेस में पोस्ट कैसे लिखें WordPress me post kaise likhe

वर्डप्रेस में पोस्ट कैसे लिखें WordPress me post kaise likhe

  1. वर्डप्रेस वेबसाइट के डेसबोर्ड को लॉगिन करे मुख्य वर्डप्रेस डेसबोर्ड तक पहुंचे।
  2. WordPress में login करने के पश्चात आपको सबसे पहले डैशबोर्ड में Posts ऑप्शन दिखान देगा उसे चुने।
  3.  इसमें All Posts के नीचे Add New पर दवाएं।
  4. इसके बाद एडिटर ओपन हो जायेगा इसमें आप अपनी पोस्ट तैयार कर सकते हैं।
  5. एक अच्छा सा Title और इसके बारे में नीचे पोस्ट को लिखकर पूर्णता प्राप्त करें और पब्लिक करें।

बेस्ट होस्टिंग कैसे चयन करें How to choose best hosting in hindi

आशा है की आपको ये पेज पसंद आया होगा। आप होस्टिंगर पर वर्डप्रेस वेबसाइट कैसे बनाएं Hostinger par WordPress Website kaise banaye वाली पोस्ट को अपने अन्य संबंधित दोस्तों को भेजे ताकि उन्हें समस्या न हो।

बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers

बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए – Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers

हमारी वेबसाइट ने आपको यह बहुत से होस्टिंग के बारे में पहले भी कई पोस्ट में बताया गया है। और आज उन्ही ने से कुछ विश्वास पात्र 5 बेस्ट होस्टिंग को जो नए ब्लॉगर्स को अच्छी और उलभता से मिले ऐसे Cheap Hosting को हम इस पेज पर आपके लिए लेकर आए हैं।

हमे सभी में से Cheap Hosting Available  जो भी महत्व रखती है को Research द्वारा चुनाव किया गया है। यह सभी बेहतरीन प्रदर्शन एवं जागरण स्वरूप वेबसाइट को खोलने के लिए उत्सुक लोगो को पसंद आने वाली हैं ।

नवीन समय ने जब आप नए ब्लॉग का या किसी वेबसाइट को कई सारी खोज बिन करना बड़ता है। आप उन सभी से बचे इसके लिए हमारी टीम ने प्रयास किया की आपको Cheap Hosting को खोज कर आपको बताए।

आपको बता दें की आप जब नई कोई वेबसाइट को खोलने का प्रयास कर रहे है। तो उस समय Shared Hosting से अपनी वेबसाइट को गति प्रदान करे।

आपसे आग्रह है की आप इस पोस्ट को अच्छे से एवं सभी बिंदुओ को एक सभी के फीचर्स को ध्यान से समझने के प्रयास करें। Cheap Hosting Websites हैं आपको नीचे बता रहे हैं

बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers

Best 5 cheap hosting for beginner Bloggers in hindi

आपको हम बता दें की यह क्रिया विशेष महत्व रखती है जिससे आपको ज्ञान की जरूरत होती है। यदि आप बिलकुल ही नए ब्लॉगर्स है तो हो सकता है आपको होस्टिंग के बारे में ज्यादा ज्ञान न हो। लेकिन हम आपको सिर्फ इतना बोलना चाहेंगे की साइट को Online Host करने के लिए Hosting की आवश्यकता होगी ।

हमारी टीम ने खोज एवं रिसर्च से आपके लिए 5 होस्टिंग सुविधाओं एवं कंपनी के सुझाव दिए हैं। आप आसानी से होस्टिंग को खरीदे आप उससे पहले सभी को पढ़े । आपको बता दें की हमारी द्वारा बताई गई इन्ही होस्टिंग कंपनी में से ही Hostinger पर हमारी ये वेबसाइट gonewz.com को होस्ट किया गया है।

1.Hostinger
2.GoDaddy
3.Bigrock
4.Bluehost
5.Cloud Ways

ऊपर बताए गए ये सभी 5 होस्टिंग के कुछ विशेष महत्व देने वाले प्लान है। लेकिन इसे आपको पूरा अवश्य पढ़ना चाहिए ताकि आप यह जान सके। लेख में सबसे नीचे कुछ होस्टिंग के परचेश करते समय आप अतिरिक्त डिस्कॉट पाने वाले लेख के अंतिम शब्दों को अवश्य पढ़ें।

1. Hostinger

Hostinger

यह बेस्ट में से बेस्ट होस्टिंग सर्विस प्रदाता कंपनियों में से एक है। यह नए ब्लॉगर्स के लिए जो होस्टिंग के चयन के लिए उत्सुक है, उन्हें यह Hostinger की सुविधा को चुनना उचित निर्णय होगा । आपको इस होस्टिंगर में Customer Support बहुत अच्छा मिल जाता हैं। आपको बता दें की Single Web Hosting, Premium Web Hosting तथा Business Web Hosting ये 3 Plan मिल जाते हैं। जो काफी बेहतर साबित होते हैं।

नए Bloggers हेतु Single Web Hosting और Premium Web Hosting ज्यादा उचित चुनाव होगा। लेकिन यदि आप कुछ ज्ञान पहले से इस फील्ड में रखते है तो आप Business Web Hosting को भी चुन सकते हैं।

इसमें आपको Single Web Hosting Plan के लिए 59 Rs. Per Month और Premium Web Hosting Plan के लिए 119 Rs. Per Month के हिसाब से चुकाने होंगे।

Hostinger के प्लान की सुविधाएं

FeaturesSingle Web HostingPremi um Web Host ingBusi ness Web Host ing
Websites1 Website100 bsite100 site
SSD Storage30GB100 GB200GB
Visits Monthly10, 00025 ,0001, 00, 000
Free Email Accounts1100100
SSL Certificatefreeफ्रीफ्री
Free Domainनहीहांyes
Bandwidth100GBअसीमितअसीमित
Managed WordPressहांहांहां
WordPress Accelerationहांyesहां
Databases2असीमितअसीमित
30 Days Money Back Guaranteeyesहांहां
Backupsसप्ताह मेंसप्ताह मेंप्रति दिन
Free CDNनहीnoहां
24/7/365 Supportहांहांहां
99.9% Uptime Guaranteeyesहांहां
Subdomains1100100
FTP Account1असीमितअसीमित
DNS Managementहांहांहां
Access Managerहाहांyes
Cloudflare Protected Nameserversyesहांहां

होस्टिंगर से आप किसी भी होस्टिंग प्लान पर अतिरिक्त छूट ऐसे पाए इस पर टिप्पणी यह पर कुछ दिनों में अपडेट करेंगे। आप हमारे पेज को बुक मार्क करके या url को ध्यान में रखें।

तो अब आइए हम हमे दूसरे होस्टिंग प्रदाता कंपनी GoDaddy के बारे में जानना प्रारंभ करें।

2. GoDaddy

GoDaddy विशेष महत्व रखती है होस्टिंग के लिए। Website को होस्ट करने के लिए यह भी अच्छा चुनाव साबित हो सकता है। Starter, Economy, Deluxe और Ultimate जैसे प्लान मिलते है। अप नए ब्लॉगर्स में से हो तो आप सुविधा अनुसार Starter या Economy प्लान का चयन कर सकते है। और ये बिलकुल ही सुरक्षित और प्रभावी भी है।

शुरुआत में आपकी वेबसाइट पर कम ट्रैफिक है तक तक आप Starter या Economy में रहे जब भर भरकर ट्रैफिक आने लगे तब आप Deluxe या Ultimate plan तक भी पहुंच सकते हैं।

Starter में एक वेबसाइट का Basic Plan आपको ₹99 हर महीने के मुताबिक देने पढ़ता है। Economy प्लान के तहत एक मुफ्त Domain & एक Business Email भी 12 महीने के Plan के साथ मिल जाता है।

GoDaddy आपको होस्टिंग सर्विस में कई सारे Features उपलब्ध करवाता है जिन्हे हम नीचे टेबल में समझेंगे । 1 GB Database Storage, Control Panel, Resources on Demand, 1 Click करके Domain Name Setup, 24×7 Network Security एवं 1 क्लिक में 150 से अधिक Free apps Install को सुविधा हैं।

हमारी टीम ने आपके लिए Starter और Economy Plan में मिलने वाले Features को नीचे टेबल में बताया है –

S. No.Starter PlanEconomy Plan
1.512 MB RAMStandard Performance
2.1 website1 website
3.10 GB storage25 GB storage
4.1 database10 databases
5.Unmetered bandwidthUnmetered bandwidth
6.Free 1-click WordPress installFree 1-click WordPress install
7.Free Professional Email (₹ 348.00/yr value) – 1st year
8.Free domain (₹ 849.00/yr value)

3. Bigrock

बेस्ट सुविधाओं में ब्लॉगिंग का महत्व रह गया है। आप अपनी वेबसाइट को एवं अपने जुनून को ऑनलाइन लोगो तक भेजने के लिए Bigrock की होस्टिंग सर्विस को चुन सकते है। आपको पहले ही बता दें की यह यह Indian Company है। जिससे आपको Server Location India में ही मिलेगी जिससे आपको टारगेटेड ट्रैफिक यदि भारत से आती है तो आप इसका चयन कर सकते हैं।

जब आपको वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक आयेगा उस समय भी Fast Load होने के लिए उत्सुक रहती है। क्योंकि यह आपको ऑडियंस के बिलकुल पास का सर्वर प्रदान करती है ।

Linux Shared Hosting तथा Windows Shared Hosting जैसे दो प्रमुख प्रकार के प्लान मौजूद हैं।

हमारी टीम आपको शुरुआत Linux Shared Hosting प्लान से करने के लिए अग्रणी करती है क्योंकि या बजट अनुसार Windows Shared Hosting की तुलना में कम कीमत रखता हैं।

अब जब हम आपको Linux Shared Hosting plans का चयन के लिए बोल रहे है तो इसके कुछ अंदरूनी प्लान भी देखते हैं। Starter, Advanced, Pro तथा Cloud Hosting इनमें से Starter और Advanced Plan नए Bloggers के लिए ज्यादा अच्छे हैं।

Starter Plan में हर महीने ₹139 हर महीने & Advanced Plan में हर महीने ₹199 का बजट अनुसार चयन करें।

Linux Shared Hosting के तहत कुछ अतिरिक्त सुविधाए Features देखने को आते है। जैसे ; Code , Varnish Web Acceleration , Power Tools , Infrastructure , Softaculous, Email Services , Free SSL Certificate , Domain Services , तथा Support आदि।

हम नीचे Basic और Advanced Plans के Features को नीचे तालिका में देते हैं।

S. No.StarterAdvanced
1.Host 1 WebsiteHost 1 Website
2.20 GB StorageUnmetered Storage
3.Free SSL CertificateFree SSL Certificate
4.100 GB Transfer BandwidthUnmetered Transfer bandwidth
5.5 Email AccountsUnlimited Email Accounts

4. Bluehost

आप जब बेस्ट Hosting Websites की खोज में निकलते है , तब आपको उन सभी में एक होस्टिंग कंपनी जिसका नाम Bluehost भी देखने को मिलता हैं। यह हमारी टीम ने Cheap Hosting में शामिल किया है क्योंकि यह भी बहुत बजट और आसानी से Beginner को मदद प्रदान करने के लिए अग्रणी है।

चार प्लान Basic, Plus, Choice Plus तथा Pro देखेंगे आप इस वेबसाइट में । जब आप नए हो इस पेज पर Basic और Plus Plan में से किसी का भी चयन कर सकते हैं। और लाभ उड़ाकर इनके Features को पाते है।

₹ 199 प्रति महीने Basic Plan में & ₹299 प्रति महीने Plus Plan के हिसाब से देने होंगे। आपको अतिरिक्त सुविधाए जैसे Domain Manager, Resource Protection, Scalability तथा SSL Certificates प्रभावी है।

Bluehost द्वारा दिया जाने वाल Basic और Plus Plans की जानकारी नीचे तालिका में –

क्र.Basic PlanPlus Plan
1.1 WebsiteUnlimited Websites
2.50 GB SSD StorageUnlimited SSD Storage
3.Unlimited BandwidthUnlimited Bandwidth
4.Free SSLFree SSL
5.Standard PerformanceStandard Performance
6.1 Included DomainUnlimited Domains
7.5 Parked DomainUnlimited Parked Domains
8.25 Sub DomainsUnlimited Sub Domains
9.Free Domain For 1 YearFree Domain For 1 Year
10.Automatic Daily Malware ScanAutomatic Daily Malware Scan

ऊपर बताए गए Features के अलावा आप कई अतिरिक्त सुविधाए को आप Charge Pay करके आप अन्य जैसे Multi Server Management , Access Control , Content Delivery Network (CDN) , Advanced Capabilities , Unique IP’s , Domain Privacy , Site Lock , Code Guard और Spam Protection इत्यादि Advance Feature पा सकते हैं।

5. Cloud Ways

Cloudways आपको अच्छी होस्टिंग सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए उपयुक्त हैं। आपको वेबसाइट के अच्छे Feature के लिए आप एवं Server और Website Fast Load की उत्सुकता मिलती हैं। जब आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड Fast होती है तब आप अपने Search Engine और Rank के साथ visitors भी अधिक उपज पाएंगे।

Cloudways का अंदर मिलने वाले चार पालन में नए ब्लॉगर्स आपको Basic और Advance Plans को चुन सकते हैं। जिसमे Basic Plan के तहत ₹ 720 हर महीने एवं Advance Plan के तहत ₹ 1584 हर महीने के अनुसार अच्छा प्लान चुन सकते हैं।

आपको इसके कुछ अतिरिक्त Features मिलते हैं। जैसे ; 24 x 7 Support ,1 Click Free SSL Installation , Managed Backups , Dedicated Firewalls , 5 Cloud Providers , Regular OS and Patch Management , Unlimited Application Installation , 60+ Global Data Centers , Multiple Databases, CDN , Seamless Vertical Scaling, SSD Based Servers, Dedicated Environment, Staging Area & URLs, Multiple PHP Versions, Account Management Dashboard, Easy DNS Management, Built-in MySQL Manager, 1 Click Server Cloning, Server & App Monitoring, Auto Healing Servers, 1 Click Advanced server Management, Free Trial Without Credit Card तथा Smart Assistant इत्यादि।

क्र.BasicAdvance
1.1 GB2 GB
2.Processor 1 coreProcessor 1 core
3.Storage 25 GBStorage 50 GB
4.Bandwidth 1 TBBandwidth 2 TB
5.Free SSLFree SSL
6.CDN Add onCDN Add on
7.Free MigrationFree Migration
8.Unlimited Application InstallationUnlimited Application Installation
9.24/7 Real Time Monitoring24/7 Real Time Monitoring
10.Dedicated FirewallsDedicated Firewalls
11.Automated BackupsAutomated Backups
12.Optimized with Advanced CachesOptimized with Advanced Caches
13.Team ManagementTeam Management
14.Auto HealingAuto Healing
15.Regular Security PatchingRegular Security Patching
16.HTTP/2 Enabled ServersHTTP/2 Enabled Servers
17.SSH and SFTP AccessSSH and SFTP Access

निष्कर्ष: बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए

अब हम आपके आग्रह करते है की यह पेज पर बताए गए होस्टिंग सर्विस में से किसी को भी चयन करे आप नीचे कमेंट मे हमे बता सकता है। ताकि एवं आप हमसे संपर्क करके अच्छे डिस्काउंट ऑफर को पा सकते हैं। यह पेज आपके लिए ब्लॉगर्स को Cheap और बेहतर होस्टिंग के चयन करने में सहायता प्रदान करता है।

होस्टिंगर क्या है Hostinger kya hai. Hindi hostinger review

आपको बता दें की हम कुछ ही दिन के बाद इस पेज पर हम विशेष डिस्काउंट ऑफर के लिए एक अच्छा होस्टिंग प्लान बताने वाले है। यदि आप चाहे तो उसे पा स्लेट है इसके लिए आप हमसे संपर्कहमसे संपर्क भी कर सकते हैं। हमारी टीम आपको ऑफर दिलाने में मदद करेगी।

डोमेन नाम क्या है Domain name kya hai

डोमेन नाम क्या है? Domain name kya hai

जब भी कई व्यक्ति ब्लॉगिंग की बात करे वह हमें यह जरूर बोलता है की तुम्हे डोमेन नाम लेना पड़ेगा । फिर हम सोचते है की यार ये डोमेन नाम क्या है? क्या होता है? या कहा मिलता होगा । ऐसा कई सवाल हमारे दिमाग में उठते हैं । तो आज हमारे इस लेख में आपको ऐसे हर तरह की जानकारी देने के लिए ही हमारी टीम इस पेज को बना रही है ।

कोई भी नई वेबसाइट को बनाएं उससे पहले डोमेन नाम की आवश्यकता हैं । आगे हम बिना समय लिए बताए की डोमेन नाम क्या होता है और कैसे काम करता है?

डोमेन नाम क्या है Domain name kya hai

डोमेन नाम क्या होता है Domain name kya hota hai

हम किसी भी वेबसाइट को जिस नाम से पुकारते गई वह डोमेन नाम होता हैं । जैसे google यानी गूगल के डोमेन का नाम google.com । जिसके द्वारा किसी वेबसाइट को इंटरनेट पर आसानी से खोजा या पहचाना जा सकते वह डोमेन नाम हैं ।

हमारे मानव जाति ने व्यक्ति को जानने एवं पहचान के लिए नाम दिए जाते गई । उसी प्रकार इंटरनेट या डिजिटल दुनिया में एक वेबसाइट की पहचान हेतु उसे डोमेन नाम दिया जाता है ।

सर्च इंजन जैसे गूगल, बिंग या याहू के खोज बॉक्स में इसी डोमेन के नाम को लिखकर वेबसाइट तक पहुंच मार्ग तैयार किया जाता हैं । एवं इसके बार आने वाले परिणाम में उसे डोमेन से संबंधित लेख ही आते हैं ।

डोमेन नाम का आविष्कार क्यों किया गया Domain name ka Abishkar kyon hua

आपको बता दें की कैस शुरुआत ने किसी भी वेबसाइट का कोई डोमेन नाम नही हुआ करता था । उस समय इसे सिर्फ IP Address से ही पहचाना जाता था ।

अरे यार अब ये IP Address क्या है । ऐसा सोचना बंद करिए क्योंकि नीचे हम IP Address के बारे ने भआई बताने वाले है । अपना पढ़ना जारी रखे !

IP Address एक विशेष तरह की नंबर्स की श्रृंखला होती है जैसे 123.376.321.157 ।

IP Address के बारे में बता दें की यह साधारण भाषा में एक वेब सर्वर का पता होता हैं । एक आईपी एड्रेस यह दर्शाता है, की इंटरनेट पर मौजूद कोई वेबसाइट किस वेब एड्रेस पर उपलब्ध है । आपको बता दें की आज भी यह IP Address हर किसी वेबसाइट के लिए होते है । लेकिन यह जैसे जैसे समय बिता ये लोगों को याद रखने में मुस्किले उत्पन्न हुई । इसी समस्या के निवारण हेतु डोमेन नाम (Domain name) इंटरनेट की दुनिया में आया ।

हम आपको नीचे बताए की डोमेन नाम कैसे काम करता है । लेकिन उससे पहले बता दें की डोमेन नाम को Background में किसी भी IP Address से कनेक्ट कर दिया जाता हैं । और जब भी कोई विजिटर उस पर आता है । तो इसे उस नंबर्स वाले IP Address को याद रखने या लिखने को कोई जरूरत नही । बल्कि वह अब सिर्फ उस आईपी एड्रेस से जुड़े डोमेन के नाम को डालने और याद रखने की जरूरत है । जैसे 123.376.321.157, 123.376.321.158 की जगह पर abc.com, example.com ।

> होस्टिंगर की होस्टिंग सर्विस के Hindi Review

डोमेन नाम कैसे काम करता है?

आपको ऊपर बता गया था की बैकग्राउंड में डोमेन नाम जो आईपी एड्रेस की जगह कनेक्ट कर दिया जाता हैं । इसे कनेक्ट करने के लिए DNS रिकॉर्ड्स, Nameserver, Cname, और a record की मदद से जोड़े जाते हैं । आप इन सभी नामों को सुनकर आश्चर्य ने ना पढ़े । ये सभी आसन है जैसे किसी छोटे से फॉर्म को भरना हो, उसी तरह ये सभी जानकारी डालना पढ़ता हैं ।

जब कोई व्यक्ति आपके वेबसाइट के डोमेन नाम को अपने मोबाइल या कंप्यूटर के ब्राउज़र की खोज बॉक्स में लिखे तो आपका ब्राउज़र सबसे पहले DNS (Domain Name System) को एक संदेश की तरह Request भेजता है । DNS आपके ब्राउज़र Request के अनुसार इस IP Address को डोमेन नाम में बदल कर । उस ब्राउज़र में बदला गया डोमेन नाम को वेब एड्रेस या वेब सर्वर के साथ जुड़ने के लिए Get Request पहुंचता हैं ।

Get Request मिलने के पश्चात वेब एड्रेस या वेब सर्वर उस वेबसाइट की एक प्रतिलिपि को ब्राउज़र में पहुंचा देता हैं ।

आपका Browser उस पहुचाई गया वेबसाइट की प्रतिलिपि को प्राप्त करता हैं । और आपके परिणाम को नए डोमेन नाम के साथ वेबसाइट को खोलने के लिए प्रेरित हैं ।

डोमेन नाम की आवश्यकता क्यों होती है Domain name ki aavshykta kyo hoti hai

मान लीजिए आप कोई वेबसाइट बनाना चाहते है । चलो कोई बात नही! आप वेबसाइट तो बना लेंगें, किंतु उस वेबसाइट को लोग इंटरनेट पर खोजेंगे कैसे उसके लिए उसका नाम किसी भी विजिटर या यूजर को बताना जरूरी है । डोमेन नाम इसी काम में आपकी मदद करता है । Domain name किसी भी वेबसाइट को एक यूनिक नाम प्रदान करता हैं जिससे लोगों को वेबसाइट तक पहुंच पाना आसान रहता है ।

आपको बता दें कोई भी यूजर आपकी वेबसाइट को इस डोमेन नाम के बगैर ढूंढ नही पायेगा । किस वेबसाइट को नाम प्रदान करने के अलावा भी वेबसाइट के लिए अन्य कई लाभ उत्पन्न करता है –

विश्वसनीयता बढ़ने ने मदद करें – अपना स्वयं का नाम होना एक बेवसाइट को पेशेवर दिखाने में हेल्प करता हैं । पर यदि आप फ्री डोमेन नाम का चुनाव करते है । तो वह वेबसाइट पेशेवर नहीं दिखेगी और लोगो का विश्वास भी उतना अधिक नही पैदा कर पाती ।

डोमेन ब्रांड की visibility को बढ़ाता है – कुछ लोग अपने बिसनेस को ऑनलाइन इंटरनेट के तरीके से संपन्न करते हैं । उस वक्त एक अच्छा डोमेन नाम आपके बिसनेस ब्रांड की visibility को बढ़ाने में सहायक होगा ।

जब आपका ब्रांड का नाम आपके डोमेन नेम से जुड़ा हुआ रहता है । तो लोगो को जल्दी से याद रखने में एवं दोबारा आने की संभावना भी बढ़ती हैं ।

इंटरनेट उपलब्धता को गतिशील बनाता है – आपकी साइट किसी भी जगह पर किसी भी देश या अन्य देशों में हो फर्क नही पढ़ता । आपकी वेबसाइट का डोमेन नाम बदलता नही हैं ।आप जिस तरफ भी जाए आप आसानी से अपने काम को बढ़ावा देने के लिए डोमेन नेम से गतिशील बना सकते हैं ।

डोमेन नाम के उदाहरण क्या है?

डोमेन नाम के बहुत सारे examples हो सकते हैं जैसे कि :-

youtube.cominstagram.com
google.compaypal.com
facebook.comwikipedia.org
amazon.comtwitter.com

डोमेन नाम के प्रकार Types of domains in hindi

आपको पहले ही बता दें की डोमेन नेम तीन प्रकार के होते है जिनमे से आपको व्यक्त करने में हम नीचे प्रदान कर रहे हैं –

1. Top Level Domain (TLD)

2. Second-Level Domains

3. Third Level Domains

1. Top Level Domain (TLD)

इस डोमेन का नाम इंटरनेट की डीएनएस क्रम अनुसार शीर्ष में आता है । यह कोई भी नाम के दाए वाले हिस्से को व्यक्त करता है जैसे instagram.com एक डोमेन है इसका दाया हिस्सा .com है यह Top Level Domain (TLD) है ।

आपको बता दें की अधिकतर ऐसे डोमेन कमर्शियल वेबसाइट्स हेतु आदेश किया जाते हैं । आपको जाकर अच्छा लगेगा की इसकी पहुंच विश्व भर में होती है । इन्हे Url Extension के रूप में व्यक्त करते हैं ।

नीचे तालिका में कुछ टॉप Top Level Domain के उदाहरण को देखते हैं ।

1.commercial.com
2.organization.org
3.network.net
4.education.edu
5.government.gov
6.business.biz
7.information.info
8.name.name

Top Level Domain (TLD) के अंर्तगत 2 भाग / 2 प्रकार आते हैं ।

a. Country Code Top Level Domains

इसके नाम को पढ़कर ही कुछ लोग अंदाजा लगा लेता है की यह देश के Two Letter ISO CODE के अंतर्गत तैयार किया गया हैं ।आपको बता दें को हर देश का अपना एक ccTLD होता हैं । किंतु देश आने ccTLD का इस्तेमाल करता है । इस हेतु कोई रोक टोक नही हैं ।

Country Code Top Level Domain इस्तमाल करने से कई फायदे होते है जब आप किसी एक विशेष देश के लोगों को टारगेट करते हुए लेख प्रकाशित करते हैं ।

जैसे कि अगर आप सिर्फ इंडिया देश के विषय या लोगों के बारे में लिखते हैं, तो आप “.in” ccTLD का उपयोग कर सकते हैं ।

Country Code Top Level Domains के उदहारण

1..usUnited States
2..inIndia
3..chSwitzerland
4..cnChina
5..ruRussia
6..brBrazil

b. Generic Top-Level Domains

Generic का अर्थ है- साधारण या फिर सामान्य । आप यह मत समझ लेना की ये बिलकुल ही साधारण तरीके के डोमेन है । यह ऐसे नही हैं । कई सारी सम्मानित और बड़ी वेबसाइटों द्वारा किया जाता है ।

Generic Top-Level Domains के उदहारण 

.com.edu.gov
.int.mil.net
.org

2. Second-Level Domains

DNS क्रम ने TLD से नीचे में वाले ये Second-Level Domains होते है । किंतु आपको बता दें ये एक डोमेन नाम से वर्णन करते हुए । अपने क्रिया सम्मान करते हैं । जैसे कि gonewz.com में (gonewz) Second-Level Domain है ।

Second-Level Domain एक डोमेन नाम का सबसे आसानी से याद रहने वाला भाग होता है । और यह वह भी होता है जिसके लोगो द्वारा वेबसाइट पर पहुंचे एवं ब्रांड स्थापित करने का भी चयन हैं ।

3. Third Level Domains

यह डोमेन नाम इंटरनेट के DNS क्रम में Second Level Domain के नीचे आते हैं । जैसे कि www.gonewzy.com में www एक Third Level Domain है ।

इसके आगे अब हम आपको सबडोमेन के बारे में कुछ बाते बताए क्योंकि यह भी डोमन का ही भाग है ।

सबडोमेन नाम क्या होता है Subdomain name kya hai

आपको बता दें की ये आपके द्वारा खरीदे गए main domain के ही एक अंग या हिस्सा या अंश हैं । आप इस सब डोमेन को अपनी वेबसाइट के डोमेन के नीचे कार्य करने वाली प्रक्रिया हैं ।

आपको यह जानकारी खुशी होगी की Subdomain को खरीदने की जरूरत नहीं पढ़ती है । आप केवल मुख्य डोमेन को खरीदे उसके बार जितने आप चाहे इस डोमेन अनुसार Subdomains डिवाइड कर सकते हैं ।

जैसे – सोचिए यदि आपका मुख्य डोमेन gonewzy.com है । पर उस मुख्य डोमेन के अनुसार Subdomain बनाना चाह रहे हो, तो आप मुख्य domain का एक सब डोमेन जैसे (shop.gonewzy.com) के नाम से बना सकते हैं ।

और इस सब डोमेन में “shop” Subdomain के रूप में कार्य करता हैं । अपने अनेक Subdomain की रचना कर सकते है ।

डोमेन नाम का चुनाव कैसे करें?

कुछ ऐसे बाते मुख्य है जिन जव भी आप डोमन खरीदें उनका विशेष ध्यान रखते हुए एक अच्छे डोमेन नाम का चुनाव कर सकते हैं, ये नीचे है –

  1. उस डोमेन नाम लेने से पहले उस डोमेन के इतिहास के जानने का प्रयास करे ।
  2. कोशिश हमें .com TLD लेने की रखे ।
  3. डोमेन में टारगेट वर्ड्स के उपयोग का प्रयास करें ।
  4. डोमेन नेम छोटा खरीदें ।
  5. अपने कंटेंट अनुसार डोमेन नाम का चुनाव करें ।
  6. ऐसा डोमेन नाम ले जिस बोलने और लिखने ने आसानी रहे ।
  7. सबसे अलग और ब्रांडेड प्रकार के लेने का प्रयास करे ।
  8. स्पेशल characters जैसे hyphen और numbers जैसे डोमन में नही लेना चाहिए ।
  9. डोमेन नाम खरीदने से पहले नेम जनरेटर के उपयोग से अच्छे डोमेन नाम के आईडिया प्राप्त करें ।
  10. अपना डोमेन नाम जल्दी चुनाव करे, इससे पहले कि कोई अन्य व्यक्ति खरीदे आप खरीद लें ।

डोमेन नाम कैसे खरीदें Domain name kaise kharide

जब भी आप डोमेन नाम खरीदने का प्रयास करे आप डोमेन रजिस्ट्रार वेबसाइट से खरीदना पड़ेगा ।आपको बता दें की इंटरनेट मार्केट में कई रजिस्ट्रार ऑनलाइन मौजूद हैं । किंतु हम नीच कुछ विशेष को तालिका में बता रहे हैं –

Domains.GoogleBigrockHostGator
GoDaddyBluehostNamecheap
Domain.comShopifyName.com
Register.com1&1 (iONOSInMotion Hosting

डोमेन नाम को सर्वर या फिर होस्टिंग से कैसे जोड़ें Domain name hosting se kaise connect kare

आपको बता दें की कैसे होस्टिंग प्रदाताओं के साथ डोमेन को जोड़ना बहुत आसान हैं । लेखों फिर भी हम आपको एक विशेष डोमेन प्रदाता कंपनी GoDaddy से डोमेन खरीदने के बाद डोमेन को कनेक्ट करने की प्रक्रिया के कुछ चरण आपको बताएंगे –

GoDaddy अकाउंट को लोगों करने के बार आपको management page पर जाना होगा । पाई

डोमेन को सेलेक्ट करने के बाद उस डोमेन नाम के ‘Manage DNS’ पेज पर पहुंचे ।

‘Manage DNS’ पेज पर पहुंचने के बाद ‘name servers’ पर जाएँ ।

‘name servers’ के बाजू में आप कुछ ऐसा “using default name servers” लिखा हुआ दिखाई देंगे ।

इसे चेंज करने के लिए ‘change button’ पर क्लिक करें और उसे ‘custom’ मोड में सेट कर दें ।

तत्पश्चात उसमें अपने होस्टिंग प्रदाता द्वारा उपलब्ध कराए गए ‘name servers’ को डालें और सेव कर दें ।

आपका डोमेन नाम GoDaddy के होस्टिंग के साथ जुड़ जाएगा ।

समापन : दोस्तों आप यदि हमारे इस पेज पर बताए गए निर्देशों एवं जानकारी जो की डोमेन नाम क्या है Domain name kya hai है । उसे आप आसानी से समझे हो तो कृपया कमेंट करके बताए एवं आप इसे अन्य जरूरतमंद दोस्तों को भेजे ।