बारे में (About)

All about the most popular & best info for product and service etc. जो आपको बारे में जानकारी को प्राप्त करने में मदद करता है।

mpin kya hota hai

MPIN kya hota hai | BEST बैंकिंग

MPIN सीखें

आज के इस मोबाइल के दौर में, MPIN बहुत जरूरी है। कई दोस्तों को इसके बारे में जानकारी नही है। ऐसे में हमारी टीम आपके लिए Post M-Pin kya hota hai, वाला लेख लिख रही है।

मोबाइल यूजर्स को बैंकिन सुविधाएं प्रदान की जाती है। अपने स्मार्ट फोन मोबाइल में उपयोग बैंकिंग सुविधा के लिए कोड दिया जाता है। MPIN एक विशेष तरह के Code दिया जाता है।

हा! तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए एमपिन क्या होता है? मोबाइल बैंकिंग में Mpin का उपयोग, इसका मतलब, फूल फॉर्म और M-Pin एप्लीकेशन इस्तेमाल हो हम इस लेख में नीचे दे रहे हैं। तो सबसे पहले जान लेते है, क्या होता है?mpin kya hota hai

Mpin Kya Hota Hai | क्या होता है?

विशेष कोड है, आजके नए स्मार्टफोन में इसका बैंकिंग इस्तेमाल है। मोबाइल तकनीक को ध्यान में रखकर यह कोड बनाया गया है। इसका यह गुण है की बैंको द्वारा बनाए एप्लीकेशन में इसका व्यवहार है। MPin code के द्वारा ही यूजर बैंकिंग एप्लीकेशन को लॉगिन, मनी ट्रांसफर जैसी सेवाए ले पता है। और आसानी से Money transaction व्यवस्था ही पाती है।

मोबाइल बैंकिंग में पहला प्रमाणित एक नंबर या कोड, MPIN होता है। आप के एमपिन नंबर होता है। मोबाइल banking Apps पर लॉगिन करने के लिए जरूरी हिस्सा है।

आसान शब्दों में MPIN को समझे तो यह लगभग एटीएम पिन की तरह ही व्यवहार करना है। चाहे पैसे प्राप्त है चाहे पैसे भेजने को MPin ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध करवाता है।

इसका मतलब है कि जब तक आप बैंकिंग एप्लीकेशन में MPin नही बनते है। आप सेवाए मनी ट्रांसफर ऑनलाइन शॉपिंग मोबाइल बैंकिंग जैसी कुछ विशेष सेवाओं का आनंद नही उठा पाते है।

अपने पैसे और बैंक अकाउंट सुरक्षा के लिहाज से इसे गुप्त रखना चाहिए। यह बहुत Sensitive कोड है। जब बैंक में आप मोबाइल बैंकिंग का रजिस्ट्रेशन करते है। उसी समय यह पिन यूज़र को बैंक द्वारा दिया जाता है। आप इसका इस्तेमाल की बात करे तो बैंकिंग मोबाइल एप्लीकेशन, UPI एप्लीकेशन, यूएसएसडी बैंकिंग जैसे कई सेवाओं में देख सकते हैं।

जब आप अपना MPIN सेट करते है, तब यह आपको लगभग 4 से 6 डिजिट का रहेगा। इसके अलावा जब अप UPI या अन्य मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन से मनी ट्रांसफर करना चाहे आप इसकी सहायता से आसानी से कर पाते है।

आपको अपने MPin को UPI एप्लीकेशन में create करने के लिए आपको अपने Virtual ID और अन्य जानकारी दिन पढ़ती है। जिसके बाद आपका UPI मोबाइल बैंकिंग एक्टिव हो पाता है।

>>> व्हाट्सएप वेब वीडियो कॉल लैपटॉप से कैसे करें! WhatsApp Web Video Call

डिजिटल तकनीक तेजी से बढ़ रही। और नई दुनिया की ओर जा रहे है। हर व्यक्ति के पास स्मार्ट मोबाइल होता है। जिसका इस्तमाल आप बैंकिंग MPIN जैसे ऑनलाइन किया जाता है।

MPIN का मतलब (Means) | MPIN Full Form फुल फॉर्म

एमपिन का मतलब है | Full Form : (Mobile Banking Personal Identification number) है। यह पिन है इसका मतलब यह नही ही आप इसे ATM पिन समझे। यह आपके ATM पिन से बिलकुल अलग होता है। यह आपके ऑनलाइन ट्रांजेक्शन मोबाइल बैंकिंग में सहायता करता है। इसका यथार्थ किसी को नही बताना चाइए। गुप्त रूप से इसे रखना चाहिए। इसके अलावा आप किसी जगह पर इसको लिखे भी नही। सिर्फ अपने दिमाग़ में याद रखें।

अब आपके MPIN का मतलब और Full Form of Mpin पता चल गया होगा। अब हम नीचे अपना बताते है इसकी जरूरत क्यों है। और यह कार्य कैसे करता है।

MPIN के उपयोग और इसकी जरुरत

नीचे हम आपको एमपिन के उपयोग और जरूरतों के हिसाब से कुछ बातें बता रहे हैं। उनको आप ध्यान से पढ़े, ताकि आप अपने इस गुप्त पिन का उपयोग सही रूप से कर पाए और उसकी जरूरत क्यों हुई, इसके बारे में भी आप जान पाए।

और हम आपको बता दें कि इसका उपयोग आप ऑनलाइन ही किसी भी शॉपिंग या फिर किसी जगह ऑनलाइन रूप से इसे एम पिन का उपयोग कर सकते हैं।

नीचे कुछ उपयोग दे रहे (MPIN Ke Upyog) ; 

  1. मोबाइल बैंकिंग सेवाओं में (Mobile Banking उपयोग),
  2. USSD Banking में,
  3. UPI Apps (Google Pay, PhonePe, PayTm etc.) में,
  4. IMPS पैसे लेनदेन (Money transition),
  5. RTGS पैसे लेनदेन (RTGS transition),
  6. NEFT पैसे लेने देन (NEFT transition),
  7. SMS Banking (एसएमएस बैंकिंग में)।

>>> जीमेल पर कॉन्टेक्ट नंबर्स कैसे सेव करें – GMail par contact number kaise save karen

MPIN कैसे प्राप्त करें (How to get MPIN)

जब आप मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करना चाहे, या फिर ऑनलाइन लेने देन, या फिर ऑनलाइन भुगतान, या फिर ऑनलाइन निजी शॉपिंग ऐसी सेवाओं के लिए इनका निर्माण या फिर MPin को प्राप्त करना चाहते हैं। तो आप हमारे द्वारा बताए गए, नीचे के 3 तरीकों से ही MPIN को प्राप्त कर सकते हैं।

  • इंटरनेट बैंकिंग से,
  • एटीएम कार्ड से (ATM),
  • बैंक शाखा से (Bank Branch)।

इंटरनेट बैंकिंग से

यदि आप इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा अपने एबिन को जनरेट करना चाहते हैं, तो आपको अपने इंटरनेट बैंकिंग को लॉगइन कर लेना होगा। और वहां से आप एमपिन जनरेट करने के लिए कुछ बताएं करनी होगी। उन प्रक्रियाओं के लिए आप इंटरनेट का सहारा ले सकते हैं। और अपना एम पिन जनरेट (MPin generate) कर सकते हैं।

>>> WhatsApp Se paise kamane ke tarike

एटीएम कार्ड से (ATM)

यदि आपके पास आपकी बैंक का एटीएम कार्ड है। और आप उसे एटीएम कार्ड के द्वारा ही अपना एमपिन को जनरेट करना चाहते हैं। जिससे आप मोबाइल बैंकिंग में इस्तेमाल करना चाहे, तो आपको अपने बैंकिंग के नजदीकी एटीएम में जाना होगा। वहां से आप एमपिन को जनरेट (Mpin generate) कर पाएंगे। और यह प्रक्रिया बहुत ही आसान और सरल भी है।

बैंक शाखा से (Bank Branch)

अपने बैंक शाखा जाकर भी आप अपने एमपिन को जनरेट कर सकते हैं। उसके लिए आपको बैंक शाखा तक पहुंचना होगा। और वहां से आपको मोबाइल बैंकिंग के लिए एक फॉर्म प्राप्त होगा। उस फॉर्म को भरने और बैंक में जमा करने के बाद आप 24 घंटे से 48 घंटे के अंदर अपने एमपिन को प्राप्त कर पाएंगे।

>>> मोबाइल बैंकिंग क्या है? कैसे करें – Mobile Banking Kya Hai

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले कुछ सवाल)

हमेशा पूछे जाने वाले सवाल आप भी हमारे पेज पर पूछ सकते है। उसके लिए आप कॉमेंट करे या हमारी टीम से संपर्क करे। हम आपके प्रश्न को भी शामिल करेंगे।

MPIN Number Kya Hai??

अपने बैंक खाते को मोबाइल द्वारा ऑपरेट करने, और लेनदेन करने की प्रक्रिया संपन्न करने के लिए, MPin नंबर होता है। यह एटीएम कार्ड पिन से अलग है। यह गुप्त रखना चाहिए।

4 अंकों का एमपिन क्या है?

आप अपने मोबाइल से लें दें के लिए इंटरनेट बैंकिंग से, एटीएम कार्ड से (ATM), बैंक शाखा से (Bank Branch) आप जब मोबाइल बैंकिंग के लिए जिस 4 अंक के mPin को प्राप्त किया जाता है।

मोबाइल बैंकिंग को कैसे सुरक्षित रखे?

मोबाइल बैंकिंग को सुरक्षा देने के लिए आप अपने में को गुप्त और छुपकर रखे। अपना पिन किसी जगह लिखे नही। सिर्फ अपने दिमाग़ में याद रखे। किसी पर विश्वास न करे अपना पिन स्वयं जिम्मेदार बनकर बनाए और याद रखे।

MPIN की meaning क्या है?

MPIN की meaning: (Mobile Banking Personal Identification number) है। और यह आपको बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराता है।

MPIN और UPI पिन समान है।

UPI द्वारा बनाया गया पिन आपका बैंकिंग लेने दें में इस्तेमाल किया जाता है। mPin आपको बैंक या एटीएम द्वारा बनाना होता है।

बैंक खाते में MPIN क्या है?

बैंक खाते का mpin बहुत सेंसिटिक कोड या पिन होता है। जिसे आप अपने पास रखे। जब ऑनलाइन लेनदेन करना हो आप इसका उपयोग अपने मोबाइल से करें।

MPIN की जरुरत क्यों है?

तकनीकी दुनिया में बैंको डेरा बनाया गया कोड जिसे आप अपने खाते को मेंटेन और सुरक्षा दे सके। इसके अलावा आप mpin से पैसे लेने देन में जरूरत पढ़ती है।

>>> 3 स्टेप में, वेबसाइट बनाएं ?

>>> Hindi hostinger review

समापन : यह पोस्ट कैसी लगी। यदि आप हमारे MPIN kya hota hai वाले पोस्ट को अच्छे से पढ़ा होगा। तो आप उत्सुकता जरूर दिखाए । और इसे शेयर करे। जब हम नई पोस्ट करेंगे  उसे देखेंने के लिख हमें गूगल में GONEWZY लिखे ।

मोबाइल बैंकिंग क्या है? कैसे करें Mobile Banking Kya Hai

Mobile Banking Kya Hai? बैंक अपने ग्राहकों या यूजर्स के लिए हर अच्छे फीचर्स को लाते है । मोबाइल बैंकिंग भी उन्ही Features (सेवाओं) में से एक हैं । मोबाइल बैंकिंग से यूजर्स अपने स्मार्ट फोन या मोबाइल डिवाइस में मध्यम से अपने बैंक अकाउंट के डिजिटल रूप से संचालित करता है ।

आपको तो पता है, की अब इंटरनेट का दौर चल रहा है । जिससे हर कोई इंटरनेट के सहारे कई कार्यों को करने में सक्षम है । इसी के तहत मोबाइल बैंकिंग भी वित्तीय लेन देन की सेवाएं इंटरनेट से संचालित होती है । इसके अलावा कई बैंकिंग कार्यों की अनुमति मोबाइल बैंकिंग सुविधा में उपलब्ध है ।

आज हम आपको इसी से संबंधित पोस्ट को लेकर आए है, यदि आप भी जानना चाहते हो, की मोबाइल बैंकिंग क्या है? (Mobile Banking Kya Hai) , इसका क्या इतिहास है? मोबाइल बैंकिंग सेवाओं के प्रकार, बैंक खाता से लेनदेन एवं मोबाइल बैंकिंग करके निवेश, के अलावा मोबाइल बैंकिंग सुविधा से लाभ फायदें, जैसे कैस प्रश्नों को हम इस पोस्ट में आगे देंगे ।

मोबाइल बैंकिंग क्या है? कैसे करें – Mobile Banking Kya Hai

तो आप Mobile Banking के ज्ञान के पढ़ने से लिए सज्ज रहें, हम कुछ ही शब्दो के बाद Mobile banking kya hai बताने वाले हैं ।

Mobile banking kya hai – मोबाइल बैंकिंग क्या है ? हिंदी में

अपने स्मार्ट फोन या मोबाइल डिवाइस (Mobile Device) से कोई यूजर अपने अकाउंट से वित्तीय लेन देन करता है । यही मोबाइल बैंकिंग सुविधा है । Mobile Banking यूजर्स और ग्राहक को हर तरह से धन लेन देन की क्रिया को सरल उपयोग करने में मदद करती हैं । इतना ही नही मोबाइल बैंकिंग सुविधा यूजर्स को स्वयं के बैंक खाते के बैंक बैलेंस, ऑनलाइन बैंक स्टेटमेंट, जैसी खुबसूरत सुविधाएं प्रदान करता हैं । किसी Fund transfer, NEFT, RTGS, IMPS एवं ऑनलाइन भुगतान की भी जरूरत भी मोबाइल बैंकिंग से संपन्न हो जाती है ।

दोस्तो आपको बता दें की आप अपने मोबाइल फोन से ऑनलाइन घर बैठे ही बिल भुगतान, ट्रेन या बस टिकट, गैस सिलेंडर बिल भुगतान भी मोबाइल बैंकिंग से माध्यम से संचालित कर सकते हैं । आपो तो पता ही है को कर यूजर्स या खाताधारण अपने लिए लैपटॉप या कंप्यूटर नही ले सकता इसलिए वह इंटरनेट बैंकिंग के लाभ को ले पाने से वंचित रह जाते थे । पर जबसे मोबाइल बैंकिंग सुविधा बैंक द्वारा उपलब्ध हुए है, कई सारे समाधान हो गया है । और लोगो को बैंकों में बड़ी बड़ी लाइन में खड़ा नही रहना पढ़ता है । कई सारे काम घर बैठे ही मोबाइल बैंकिंग से हो जाते है ।

जब भी आप किसी बैंक की मोबाइल बैंकिंग को संचालित करना चाहते हो, आपको उस बैंक द्वारा बनाए किसी Mobile banking application को अपने मोबाइल में लोड कर्म होगा । यह यूजर्स के हिसाब से ही बनाया जाता है, जिसे हर यूजर आसानी से चला पाए है ।

>>> Whatsapp Web Kya Hai? लैपटॉप पर कैसे उपयोग करें

बैंक के मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन की मदद से यूजर्स बैंक से और बैंक के अंदर अपने अकाउंट से सीधे जुड़ जाता है । और बैंको द्वारा मोबाइल बैंकिंग में दी गई सेवाओं के लाभ उठाता है ।

मोबाइल बैंकिंग के इतिहास – Mobile banking history

दरसल बात है 1999 को जब कुछ बैंक अपने यूजर्स को मोबाइल बैंकिंग की सुविधा के लेकर आए थे । लेकिन आपको जानकर हैराही होगी की इस समय बैंक सिर्फ एस.एम.एस (Sms) में टेक्स्ट रूप में ही अपनी बैलेंस या अन्य सेवाओं को पहुंचाना शुरू किया । वर्ष 2010 के समय से SMS की बैंकिंग एवं Mobile Web बेहतरीन प्रदर्शन कर रहा था । उसी समय Android एवं iOS इस्तेमाल करने वाले यूजर्स के लिए, बैंक ने अपने मोबाइल डिवाइस के लिए एप्लीकेशन बनाना प्रारंभ किया ।

मोबाइल बैंकिंग को जब स्मार्ट फोन के हिसाब से उपभोक्ता सेवाओं के अंतर्गत लेन देन के फीचर्स बढ़ाए गए । आज कल अपने बैंक अकाउंट से लेनदेन एवं बैलेंस देखने को प्रक्रिया एसएमएस और मोबाइल बैंकिंग से संचालित हो रही हैं । आपको बता दें की , बैंक इस हेतु हर ट्रांजेक्शन में सुरक्षा भी देती हैं ।

मोबाइल बैंकिंग सेवाओं के प्रकार – Features of mobile banking

अपने यूजर्स के बैंक कई सारे फीचर्स देता है, उन्हें तहत Mobile banking service भी मुख्य भूमिका निभाती है जिसमे आप कई सारे फीचर्स देखेंगे –
1. बैंक इंफॉर्मेशन
2. लेनदेन सुविधा
3. निवेश सुविधा
4. सहायता एवं सुरक्षा सेवाएं

1. बैंक इंफॉर्मेशन

आपके बैंक मोबाइल बैंकिंग सुविधा के अंर्तगत कई सारी ऑनलाइन जानकारी इंफॉर्मेशन देता हैं । जिसके अंतर्गत आप बैंक खाता धारक या यूजर्स को बैंक लेनदेन, बैंक बैलेंस डाटा, फंड ट्रांसफर की हर इंफॉर्मेशन आपका दिखाती हैं । इतना ही नही यह इंफॉर्मेशन के देखकर उपभोक्ता मोबाइल बैंकिंग से मिनी स्टेटमेंट एवं खाता जानकारी को प्रिंट भी कर सकता हैं ।

2. लेनदेन सुविधा

जैसे की नाम से ही सिद्ध है, की लेनदेन सुविधाएं उपलब्ध कराता है । जिसमे आप घर पर रहकर ही, घर बैठे ही मोबाइल बैंकिंग से सरलता पूर्वक बिना किसी हिचकिचाहट के लेनदेन क्रिया संपन्न कर सकते हैं । इसमें आप M Banking से RTGS,IMPS,NEFT या ऑनलाइन शॉपिंग जैसे लेन देन के भुगतान कर सकते हैं ।

इसके अतिरिक्त भी कैस सुविधाए जैसे बैंक खाता से बिजली, पानी, गैस के बिल, रिचार्ज एवं बस रेलवे टिकट बुक कर उसमला पेमेंट कर सकते हों ।

3. निवेश सुविधा

जब भी कोई यूजर निवेश के लिया प्लान करता है । तो वह बैंक द्वारा दिए गई मोबाइल बैंकिंग सुविधा से भी अपना निवेश प्रारंभ एवं किसी भी समय बाहर निकल सकते है । यह सुविधा उत्तम हैं, जहा निवेश Portfolios को देख सकता है । Term deposit, Fixed diposit इन सभी को यूजर मोबाइल बैंकिंग की सहायता से कर सकता है ।

>>> व्हाट्सएप से पैसे कैसे कमाएं (अब होगी छुट्टी) – WhatsApp Se Paise Kaise Kamaye

4. सहायता एवं सुरक्षा सेवाएं

मोबाइल बैंकिंग में और इसके एप्लीकेशन में ग्राहक इस एप्लीकेशन की मदद से सहायता एवं सुरक्षा सेवाओं के आसानी से गृहण कर सकता है । एवं किसी भी समय इन्हे पा सकता हैं । जब आप लोन, या क्रेडिट जैसी सुविधाओं की बात हो आसान हैं । ATM card या चेक बुक हेतु रिक्वेस्ट जैसे कार्य भी मोबाइल बैंकिंग में उपलब्ध हैं । इतना ही नही जब आपके ATM खो या कही चोरी की स्थिति में भी मोबाइल बैंकिंग उपयोग में लिया जा सकती है, जिससे आपके ATM को फास्ट तरीके से ब्लॉक किया जा सकता हैं ।

आज के समय में मोबाइल बैंकिंग के महत्व क्या है?

आज के एक्स इस तकनीकी बड़ी दुनिया में हर कोई उसे किसी भी बैंक के लेनदेन एवं उसके अन्य सुविधाओं के लिए मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहा है । मोबाइल बैंकिंग का महत्व शुरुआती दिनों में थोड़ा कम था । लेकिन जैसे-जैसे इंटरनेट की कनेक्टिविटी बड़ी और इस स्मार्टफोन की दुनिया हाई मोबाइल बैंकिंग बहुत ही सरल और आसान तरीका बन गई है । मोबाइल बैंकिंग से आप अपने किसी भी फ्रेंड को ट्रांसफर कर सकते हैं और अपनी आवश्यकता अनुसार अपने किसी बिजनेस या किसी अन्य जगह पर भी अपने पैसे को सुरक्षित रूप से लेन देन प्रक्रिया में कर सकते हैं ।

मोबाइल बैंकिंग में जब आप किसी भी फ्रेंड को घर बैठे ही ट्रांसफर कर सकते हैं । तो आपको बैंक में बार-बार बड़ी-बड़ी लाइनों में लगने की जरूरत नहीं है । यह इसकी विशेष महत्त्व होता है   इसके अलावा भी आप किसी भी समय समय पर बिना किसी भी समस्या के हर रोज 200000 तक पैसे को ट्रांसफर लेन देन कर सकते हैं ।

आपको तो पता ही है, कि यदि आपके पास कोई स्टोरी है दुकान भी है । तब भी आप अपने ग्राहक से पेमेंट आपने सीधे बैंक अकाउंट में पा सकते हैं । और आज ऑनलाइन का कार्य इतना बढ़ गया है , कि मोबाइल बैंकिंग बहुत ही जल्दी और फास्ट तरीका बन गई है । हर कोई घर बैठे आसानी से अपने सभी ट्रांजैक्शंस को कर पा रहा है । और इसके अतिरिक्त भी मोबाइल बैंकिंग में बहुत सारे सेवा ही जुड़ चुकी है । उनमें से कुछ सेवाओं को तो हमने ऊपर आपके साथ डिस्कस किया ही है ।

मोबाइल बैंकिंग पंजीयन कैसे करें – Mobile banking registration

बैंक अपने उपभोक्ताओं को मोबाइल बैंकिंग जैसे ही फैसिलिटी में पंजीयन करने के लिए कुछ ही डॉक्यूमेंट या दस्तावेज सबमिट करने की परमिशन लेती है । जिसमें आप का आईडी प्रूफ (आधार कार्ड, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी इत्यादि में से कोई भी), मोबाइल नंबर (Active है) इसके साथ पंजीयन फॉर्म को सबमिट करने की जरूरत होती है ।

सब कुछ सही होने पर आप SMS के मध्यम से MPIN ग्राहक पंजीयन मोबाइल पर पा डालते हैं । और मोबाइल में MPIN लगाकर मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन को लॉगिन कर सकते हैं ।

  • अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर से आप USER ID और MPIN पा सकते हो ।
  • आप बैंक के मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन या कोई अन्य थर्ड पार्टी एप्लीकेशन को अपने साथ जोड़ सकते हैं ।
  • जब आप मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन या कोई अन्य थर्ड पार्टी एप्लीकेशन में अपने इंस्टालेशन की प्रक्रिया के करते है ।
  • तब Activation Process में पंजीकृत मोबाइल नंबर पर OTP Code एवं MPIN code के द्वारा आप मोबाइल बैंकिंग का एक्टिक कर सकते हैं ।

USSD (Unstructured Supplement Service Data)

USSD के अंतर्गत आपको यह बेनिफिट होता है, की आप बिना इंटरनेट के अपनी active SIM पर मोबाइल की मदद से बनी की इंफॉर्मेशन प्राप्त कर सकते है । USSD से आप बैंक बैलेंस चेक कर सकते हैं ।

UPI एप्लीकेशन

UPI से यूजर अपना लेन देन ऑनलाइन कर सकते हैं । इसका फुल फॉर्म Unified Payments Interface है । आप हर तरह के पेमेंट को UPI से संभव कर सकते हैं । जिससे यूजर्स को अपने बिल, रिचार्ज, शॉपिंग मॉल जैसे पेमेंट को आसानी से कर पाने में सक्षम है । एवं आप सिनेमा घर या बस या ट्रेन ही नही टैक्सी की पेमेंट भी UPI से संभव कर सकते हैं ।

>>> वेबसाइट कैसे बनाएं – How to start website in hindi

मोबाइल बैंकिंग के फायेदे – Mobile banking ke fayde

जहां देखो वहां हर लोग मोबाइल बैंकिंग का इस्तेमाल करते हुए दिखाई देते हैं । ऐसे में मोबाइल बैंकिंग के अलग-अलग तरह से क्या-क्या फायदे हो सकते हैं । यह आपके लिए जान लेना बहुत जरूरी है नीचे हम कुछ मोबाइल बैंकिंग के फायदे बता रहे हैं –

  1. अपने बैंक के अकाउंट को घर बैठे मेंटेन करना ।
  2. घर बैठे ही अपने बैंक अकाउंट का बैलेंस चेक (Balance Check) करना ।
  3. किसी भी समय अपने बैंक अकाउंट की राशि को मोबाइल द्वारा ट्रांसफर करना ।
  4. मोबाइल बैंकिंग के द्वारा अपने अकाउंट (Account) की डिटेल निकालना ।
  5. 24/7 कस्टमर सपोर्ट मोबाइल से प्राप्त करना ।
    ऑनलाइन पेमेंट करना ।
  6. ऑनलाइन बिजली , गैस , पानी इत्यादि के बिल भरना ।
  7. अपने मोबाइल से ही डीटीएच या मोबाइल रिचार्ज (Mobile recharge) करना ।
  8. किसी भी समय अपने अकाउंट का स्टेटमेंट (Statements) डाउनलोड करना ।

Frequently Asked Questions (FAQs) – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

कई लोग अक्सर इंटरनेट पर आपने क्वेश्चन पूछा करते हैं उनको जनों को लेकर हम आए हैं वैसे इन क्वेश्चन को फ्रिक्वेंटली एस्क्ड क्वेश्चंस (Frequently Asked Questions) बोलते हैं –

1. मोबाइल बैंकिंग के उपयोग क्या है (Mobile banking ke upyog kya hai)

दोस्तों लोगों के द्वारा माल बैंकिंग का इस्तेमाल करके अपने बैंक अकाउंट को अपने स्मार्टफोन या मोबाइल डिवाइस से ही कंट्रोल किया जाता है । एवं इतना ही नहीं बैंक अकाउंट बैलेंस चेक किसी भी समय बैंक अकाउंट से लेनदेन की प्रक्रिया कर सकते हैं । इसके अलावा भी मोबाइल बैंकिंग के बहुत सारे उपयोग है ।

2. मोबाइल बैंकिंग का अर्थ क्या है (Mobile banking ka kya matlab hai)

मोबाइल बैंकिंग का मतलब (अर्थ) है, अपने अकाउंट को मोबाइल बैंकिंग द्वारा अपने स्वयं के मोबाइल द्वारा ऑपरेट करना एवं लेनदेन एवं बैंक डिटेल जैसी सेवाओं को अपने स्वयं के मोबाइल स्मार्टफोन पर प्राप्त करना ।

3. मोबाइल बैंकिंग और नेट बैंकिंग में अंतर क्या है । Mobile banking or internet banking mein kya antar hai

मोबाइल बैंकिंग मोबाइल के द्वारा ऑपरेट की जाती है, जबकि इंटरनेट बैंकिंग के लिए आपके पास लैपटॉप या कंप्यूटर होने की जरूरत होती है । मोबाइल बैंकिंग एवं नेट बैंकिंग में आपको लगभग ही सभी सेवाएं सम्मान प्राप्त होती है, लेकिन यह सेवा आपके लिए ज्यादा उत्तम है क्योंकि यह आपके मोबाइल से ही ऑपरेट हो सकती है । मोबाइल बैंकिंग यूजर्स के लिए बहुत ही फायदे और देने वाली होती है, और यह आसान भी है ।

>>> जीमेल पर मोबाइल नंबर कैसे सेव करें – GMail par contact number kaise save karen

समापन : दोस्तों आज आपने हमारे ब्लॉक पर मोबाइल बैंकिंग संबंधित यह पोस्ट पड़ी जिसमें हमने आपको बताया था कि मोबाइल बैंकिंग क्या है? (Mobile banking kya hai). मोबाइल बैंकिंग के लिए पंजीकृत कैसे करें? और इतना ही नहीं हमने इसके कुछ लाभ भी आपको फायदे के साथ बताएं दोस्तों यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपया हमें कमेंट अवश्य करें इसके अतिरिक्त आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों को अपने फैमिली मेंबर्स को बिना किसी हिचकिचाहट के व्हाट्सएप या फेसबुक पर शेयर कर सकते हैं । मोबाइल की दुनिया में आजकल ऑनलाइन शायरी उपलब्ध है आप उन शायरी को इंजॉय Shayari Enjoy कर सकते हैं।

ऐसे ही हम कुछ अन्य आर्टिकल आपके लिए नीचे दे रहे हैं आप चाहे तो उन्हें भी इस पोस्ट को पढ़ने के बाद या कमेंट करने के बाद पढ़ सकते हैं ।

Whatsapp Web Kya Hai लैपटॉप पर कैसे उपयोग करें

Whatsapp Web Kya Hai? आज के इस इंटरनेट के समय में सोशल मीडिया बहुत प्रचलित हैं । लगभग सभी दोस्त एवं फैमिली जन सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं । ऐसे में नए नए अपडेट को सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर पहुंचने और अपने फ्रेंड्स और followers से लाइक एवं कॉमेंट हर कोई कहता हैं । इन्ही में से भारत में सोशल मीडिया के रूप में उभर कर Whatsapp प्लेटफार्म आया है ।

आपको जानकर हैरानी होगी, की पिछले कुछ वर्षों में Whatsapp भारत में स्पीड से अपनी जगह सोशल मीडिया के रूप में बना रहा हैं । इंटरनेट पर व्हाट्सएप अपने नए नए सुविधाओं को यूजर्स के लिए उतरता रहता है । ऐसे में आपको व्हाट्सएप वेब (Whatsapp Web) के बारे में जानना जरूरी हैं । और यह हर दिन बढ़ता जा रहा हैं ।

Whatsapp Web वर्जन व्हाट्सएप की ऐसी सुविधा है जो यूजर्स के लिया अहम हैं । आपको बता दें की यह सुविधा अपने मोबाइल के Whatsapp को कंप्यूटर और लैपटॉप से जोड़ने और उनमें व्हाट्सएप सेवाओं के इस्तेमाल करने की अनुमति देता हैं । बहुत से Users इस Feature को अच्छे से उपयोग कर रहे हैं । एवं कोई हमारे दोस्तों को पसंद भी आ रया है ।

अकसर कुछ ऐसे काम होते है जिन्हें हम स्मार्ट फोन या मोबाइल डिवाइस से नही कर पता है । तो उन सभी काम को आसानी से बिना किसी कठिनता से कंप्यूटर या लैपटॉप से निपटाया जा सकता है । ऐसी कठिनाइयों को ध्यान में रखकर ही Whatsapp कंपनी ने Whatsapp Web को यूजर्स तक पहुंचाया हैं । और यूजर्स को व्हाट्सएप वेब वर्जन (Whatsapp Web Version) से सरलता होती हैं । और इसके साथ ही अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में अपने मोबाइल के व्हाट्सएप को चला पाए यह सुविधा जोड़ी ।

आपको बता दें की आज भी कई हमारे साथी ऐसे है जो व्हाट्सएप को कंप्यूटर या लैपटॉप में चलाएं पर उन्हें चलाने के तरीके पता नही हैं । ऐसे में व्हाट्सएप को अपने मोबाइल से कंप्यूटर या लैपटॉप (Computer & Leptop) में कैसे चलाएं । आज हम आपको इस पोस्ट में विस्तृत जानकारी के साथ बताने वाले हैं ।

Whatsapp Web Kya Hai? लैपटॉप पर कैसे उपयोग करें

यदि कोई चाहता है, की वह कंप्यूटर या लैपटॉप में व्हाट्सएप (Whatsapp) को चलाए एवं अपनी समस्याओं के आसान करे तो इस पोस्ट को ध्यान से अंतिम शब्दों तक पढ़े । एवं इतना है नही इसमें हम व्हाट्सएप वेब को स्मार्ट फोन या मोबाइल से लॉग आउट कैसे करे? व्हाट्सएप वेब को सॉफ्टवेयर से कैसे उपयोग करें? व्हाट्सएप के बैकग्राउंड में फोटो कैसे लगाएं? व्हाट्सएप डीपी क्या हैं ।

तो दोस्तों अब हम आपको नीचे बता देते है, को Whatsapp Web के बारे में बता देते हैं ।

व्हाट्सएप वेब क्या है – Whatsapp web kya hai

विश्व भर में प्रचलित हो रही सोशल मीडिया नेटवर्क Whatsapp है । जिस पर दिन प्रतिदिन यूजर्स अपने आदान विचार को अपने दोस्तों एवं फैमिली मेंबर्स के साथ साझा करते है । Whatsapp प्रमुख तरह से Messenger एप्लीकेशन के अंतर्गत मैनेज किया जाता हैं । दोस्तों इतना ही एनएचएआई आप इसकी सहायता से फोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट या अपनी कोई फाइल को दोस्तों एवं Family members तक पहुंचाते हैं ।

यह Free application है, इस हेतु यूजर्स को किसी भी तरह की रकम नही देती पढ़ती । व्हाट्सएप वेब Whatsapp का Desktop Version है । आपको बता दें, की स्मार्ट फोन के अंतर्गत यूजर्स को व्हाट्सएप जो फीचर्स देता है, उन सभी फीचर्स को डेस्कटॉप (Desktop) में भी जुनून के साथ अपनाता है ।

जैसे कि व्हाट्सएप स्मार्टफोन में कई सुविधाएं देता है, उसमे सभी फोटो, मीडिया और डॉक्यूमेंट को भी फ्रेंड्स या ग्रुप में शेयर कर सकते हैं ।

जब भी आप व्हाट्सएप वेब वर्जन को लैपटॉप या कंप्यूटर में इस्तेमाल करना चाहिए । उसके लिए आपको नीचे की कुछ बातों का ध्यान में देना जरूरी है –

  1.  सबसे पहले अपने मोबाइल या स्मार्टफोन डिवाइस में व्हाट्सएप को लॉगइन (Sign in) करके रखना पड़ेगा ।
  2.  व्हाट्सएप वेब वर्जन (WhatsApp web version) लैपटॉप या कंप्यूटर में चलाने हेतु वेब ब्राउज़र को लेटेस्ट वर्जन में होना चाहिए ।
  3.  अपने लैपटॉप या डेक्सटॉप को, कंप्यूटर को इंटरनेट से कनेक्ट करना जरूरी है ।
  4.  अबे भजन मैं कोई साइन अप (Signup) का या साइन इन (Sign in) का ऑप्शन नहीं मिलता है ।

>>> गूगल से पैसे कैसे कमाएं – Google Se Paise Kaise Kamaye

व्हाट्सएप वेब वर्जन को कंप्यूटर या लैपटॉप में कैसे उपयोग करें

WhatsApp web version ko computer ya laptop mein kaise use Karen. यह बहुत सरल है लेकिन फिर भी कई हमारे दोस्तों को लैपटॉप में या फिर उनके डेक्सटॉप में व्हाट्सएप वर्जन का इस्तेमाल करते समय समस्याएं आती है । इसीलिए अब आपको कुछ भी परेशानी की जरूरत नहीं है । हमारे द्वारा बताए गए नीचे के कुछ स्टेप्स को फॉलो करें । और अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में व्हाट्सएप वेब वर्जन को उपयोग में लाएं –

  1.  सबसे पहले अपने मोबाइल डिवाइस या स्मार्ट फोन में व्हाट्सएप एप्लीकेशन में अपने व्हाट्सएप अकाउंट को लॉगिन (Login) कर ले ।
  2.  अब आप कंप्यूटर या लैपटॉप के अंदर किसी भी वेब ब्राउज़र को ओपन करें और इंटरनेट जुड़ा हुआ रखे ।
  3.  आपको अब व्हाट्सएप के वेब वर्जन वाली वेबसाइट web.whatsapp.com को टाइप करना है ।
  4.  जब आप सफलतापूर्वक वेबसाइट पर पहुंच जाएं, तब अपने स्मार्टफोन या मोबाइल के अंदर व्हाट्सएप एप्लीकेशन में जाना है ।
  5.  कंप्यूटर या लैपटॉप की स्क्रीन पर आपको व्हाट्सएप वेब वर्जन का क्यूआर कोड दिखाई देगा ।
  6.  अपने मोबाइल के व्हाट्सएप एप्लीकेशन में ऊपर की ओर राइट हैंड साइड थ्री डॉट (3 dot) दिखाई देंगे उस पर क्लिक करें ।
  7.  जैसे ही आप फ्री डॉट पर क्लिक करते हैं व्हाट्सएप वेब वर्जन का एक ऑप्शन दिखाई देगा ।
  8.  वहां पर OK GO IT पर जाना है ।
  9.  OK GO IT क्लिक होने पर आपके मोबाइल डिवाइस का कैमरा ओपन हो जाएगा ।
  10.  वहां पर आपको अपने लैपटॉप पर डेस्कटॉप स्क्रीन पर दिख रहे QR code कोई स्कैन करना है ।
  11.  जैसे ही आप का क्यूआर कोड स्कैन हो जाता है आपके व्हाट्सएप अकाउंट से कंप्यूटर या लैपटॉप स्क्रीन कनेक्ट हो जाएगी ।
  12.  जिसके बाद आप कंप्यूटर या लैपटॉप की सहायता से अपने सभी फोटो, मीडिया, और डॉक्यूमेंट को मैनेज कर पाएंगे ।
  13.  अब आप अपने उस कंप्यूटर या लैपटॉप डिवाइस में अपने मोबाइल के अंदर के व्हाट्सएप को आसानी से इस्तेमाल कर पा रहे हैं ।

तो दोस्तों आपने ऊपर व्हाट्सएप Web वर्जन को अपने मोबाइल एप्लीकेशन से कंप्यूटर या डेक्सटॉप में चलाना सीखा । नीचे हम आपको व्हाट्सएप वर्जन को स्मार्टफोन के द्वारा लॉगआउट कैसे करते हैं, उसके बारे में बता रहे हैं ।

>>> Hindi hostinger review

Whatsapp web को स्मार्टफोन या मोबाइल से लॉगआउट कैसे करे

WhatsApp web ko smartphone ya mobile se logout kaise karen. इंटरनेट की दुनिया में अपने व्हाट्सएप को एवं व्हाट्सएप अकाउंट को सिक्योर रखना जरूरी है । ऐसे में आप अपने व्हाट्सएप बेवको अपने मोबाइल से किस तरह से लगाओ उस करें । उसके बारे में जानना बहुत जरूरी है । जब भी आप Whatsapp web का इस्तेमाल करें उस समय आपको अपने मोबाइल डिवाइस से इस्तेमाल करने के बाद व्हाट्सएप देव को लोग आउट कर देना जरूरी होता है । ताकि आपका व्हाट्सएप कहीं और तरीके से न चल सके । नीचे हम Whatsapp web को मोबाइल से या स्मार्टफोन से लॉगआउट कैसे करें उसके बारे में कुछ स्टेप दे रहे –

  • अपने मोबाइल डिवाइस से या स्मार्ट फोन में आपको व्हाट्सएप एप्लीकेशन में जाना है ।
  • ऊपर की ओर राइट साइड में थ्री डॉट्स पर क्लिक करना है ।
  • अब आपको वेब वर्जन पर क्लिक करना है और विंडोज वर्जन लॉगआउट पर जाना है ।
  • यदि आप लोग आउट फ्रॉम ऑल डिवाइस पर क्लिक कर देते हैं तो आपका व्हाट्सएप जितने भी कंप्यूटर या लैपटॉप में लॉगिन होगा वहां से लॉग आउट हो जाएगा ।
  • तो लीजिए अब आप अपने व्हाट्सएप बेवकूफ मोबाइल लिया इस स्मार्टफोन के द्वारा लॉगआउट करना आसानी से सीख गए होंगे ।

दोस्तों नीचे हम व्हाट्सएप डीपी क्या है । इसके बारे में आपको बताने वाले हैं एवं व्हाट्सएप डीपी कैसे लगाते हैं । यह भी स्टेप नीचे हम आपको दे रहे हैं ।

व्हाट्सएप डीपी क्या है? कैसे लगाएं

साधारण रूप से बात की जाए तो व्हाट्सएप यूजर अपने अकाउंट पर एक पिक्चर लगा कर रखते हैं । ताकि आपको उस पिक्चर के द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप या किसी नंबर से आप की पहचान है । उस फोटो के द्वारा उस डीपी के द्वारा की जा सके । दरअसल यह एक पिक्चर होती है, जो व्हाट्सएप डीपी के रूप में लगा दी जाती है ।

हर कोई व्यक्ति व्हाट्सएप पर डीपी (Display Picture) लगाता है व्हाट्सएप पर डीपी (DP)लगाना बहुत ही आसान है नीचे हम आपको व्हाट्सएप डीपी लगाने की कुछ स्टेप बता रहे हैं–

  • व्हाट्सएप डीपी लगाने के लिए सबसे पहले आपको अपने व्हाट्सएप अकाउंट में लॉग इन करना होगा ।
  • व्हाट्सएप डीपी लगाते समय आपको ऊपर की ओर राइट हैंड साइड फ्री डॉट पर क्लिक करना होगा ।
  • अब आपको कुछ नहीं से सेटिंग का ऑप्शन दिखाई देगा उस पर जाएं ।
  • जैसे ही आप सेटिंग पर क्लिक कर देते हो आपके सामने व्हाट्सएप प्रोफाइल खुल जाएगा ।
  • यहां पर आपका नाम एवं यदि आपने कोई फोटो पहले से डी पी के रूप में लगा कर रखी है तो वह दिखाई देगी ।
  • जब आप डीपी लगाना चाहते हो तो उस फोटो पर कैमरे पर क्लिक करें ।
  • जिसके बाद आप अपने मोबाइल की गैलरी या डायरेक्ट कैमरे से भी तुरंत डीपी लगा सकते हो ।

>>> फेसबुक से पैसे कैसे कमाएं – Facebook Se Paise Kaise Kamaye

तो लीजिए जैसे ही आप इतना सा काम कर देते हो, आपके व्हाट्सएप अकाउंट पर डिस्प्ले पिक्चर लग जाएगी । दोस्तों नीचे हम आपके लिए व्हाट्सएप के बैकग्राउंड में फोटो को कैसे लगाते हैं, इसके बारे में बता रहे हैं ।

व्हाट्सएप के बैकग्राउंड में फोटो कैसे लगाएं – Whatsapp ke background mein photo kaise lagaen

यदि आप अपने व्हाट्सएप के बैकग्राउंड में कोई फोटो को लगाना चाहते हैं, तो आप हमारे नीचे के स्टेप को ध्यान से फॉलो करें –

  1. अपने मोबाइल में व्हाट्सएप एप्लीकेशन में अपना व्हाट्सएप अकाउंट लॉगिन कर ले ।
  2. सबसे पहले ऊपर की ओर जो थ्री डॉट दिखाई दे रहे हैं उन पर जाएं ।
  3. सेटिंग ऑप्शन पर पहुंचे ।
  4. यहां पर आप चैट्स ऑप्शन पर क्लिक करें ।
  5. जिसके बाद यहां पर एक वॉलपेपर का ऑप्शन आएगा उस पर क्लिक करें,
  6. यहां पर आप वॉलपेपर के रूप में अपनी मनपसंद फोटो को गैलरी में से चयन करके सेव कर दे ।लीजिए अब जैसे ही आप यहां पर अपने मनपसंद फोटो को वॉलपेपर के रूप में सेट कर देते हैं और सेव कर देते हैं तो आपके बैकग्राउंड में वह फोटो लग जाएगी ।

तो दोस्तों आपने आज यह आर्टिकल पड़ा जिसमें हमने आपको बताया कि व्हाट्सएप पे वर्जन क्या है । इसके अंतर्गत आने वाले कई सवाल जैसे व्हाट्सएप वेब को स्मार्ट फोन या मोबाइल से लॉग आउट कैसे करे? व्हाट्सएप वेब को सॉफ्टवेयर से कैसे उपयोग करें? व्हाट्सएप डीपी क्या हैं । व्हाट्सएप के बैकग्राउंड में फोटो कैसे लगाएं? इन्हें अपने जाना यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो कृपया हमें अपनी राय कमेंट करके अवश्य बताएं ।

>>> जीमेल पर कॉन्टेक्ट नंबर्स कैसे सेव करें –  GMail par contact number kaise save karen

एवं अपने दोस्तों को इस पोस्ट के लिंक को शेयर अवश्य करें ताकि उन्हें भी Whatsapp web के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ऐसे ही अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारे मुख्य पृष्ठ पर जाएं ।

ए2 होस्टिंग क्या है?? A2 hosting kya hai. Hindi review

ए2 होस्टिंग क्या है: A2 hosting kya hai. Hindi review

हर कोई इंटरनेट की दुनिया में कदम करते से ही पैसे कमाना चाहता है। जिसके लिए वह कई ट्रैक अपनाता है। उनमें से एक वेबसाइट बनाने का भी है लेखी आपको तो पता ही होगा की इसके लिए आपको एक डोमेन और एक अच्छी होस्टिंग लेने की जरूरत होती है।

लेकिन जब आप होस्टिंग पूरचेश करे, उसमे कोई जल्दबाजी न कर हमरे बेबेसाइट पर कई Hosting providers के Hindi Review अपलोड किए जा चुके है। जिन्हे आप पढ़ सकते हैं, उसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए आज के इस पेज पर हमारी टीम में आपके लिए A2 Hosting Hindi Review को लेकर आए है।

आप इस रिव्यू में कई सारे तथ्यों को एवं इस ए2 होस्टिंग में भीतर मिलने वाले कुछ विशेष छूट और फीचर्स को भी बताया गया है।

हो सकता है आपके इस ए2 होस्टिंग कंपनी के बारे में पहले भी कई वेबसाइट पर रिव्यू पढ़े होंगे। पर हमारे द्वारा बना गया रिव्यू सिर्फ रिव्यू भी उसमे हम आपको विशेष ऑफर और  Discount भी दिलवाएंगे। इसलिए आपको इस पेज पर मौजूद हैं बात को पढ़ने और समझने के प्रयास क्रम से रखने चाहिए।ए2 होस्टिंग क्या है A2 hosting kya hai. Hindi review

वर्ष 2001 तक इस Iniquinet नाम से जाना जाता है लेकिन उसके बाद 2003 से इसे A2 Hosting नाम में बदल दिया । इसमें Up to 20x faster servers देने का दावा है।

होस्टिंगर क्या है Hostinger kya hai. Hindi hostinger review

नीचे हम इसके हर तरह से सब कुछ जानने वाले है जिसमे A2 Hosting kya hai और A2 Hosting Plans कोन से बेस्ट है। को भी बताया गया है।

ए2 होस्टिंग क्या है A2 Hosting kya hai

यह आपको Web Hosting प्रदान करने वाली एक होस्टिंग कंपनी है जिसे पहले Iniquinet से जानते थे। पर अब A2 Hosting कहते है।

जब आप किसी नए ब्लॉगर्स में से किसी भी प्रारंभिक A2 hosting को खरीदते है तो उसमे आपको $2.99 हर महीने का व्यय होगा।

A2 Hosting के अंतर्गत Best Products कोन से हैं?

A2 Hosting के अंतर्गत Best Products कोन से हैं?
अन्य होस्टिंग सर्विस से बेहतरीन होस्टिंग देने में A2 Hosting में अपने प्लान को अच्छे से सजाकर बनाया है। इसमें आपकी वेबसाइट को कई सारे फायदे हो सकता है। हम आपको A2 Hosting के अंतर्गत बेस्ट प्रोडंक्ट को बताने वाले है।

जब भी आप अपना वेबसाइट को बनाने के विचार बनाए उसके लिए आपके पास डोमेन का होना जरूरी है। ए2 होस्टिन में आपको (जैसे .com, .net, .info) भी मिल जायेंगे । जब आप .com डोमेन को चुनते है। तब उसका प्राइस $14.95 हर वर्ष अनुसार देने होंगे।

पर TLD जैसे .de, .fr, .es, .co.uk या .au के फीचर्स नहीं मौजूद है।

आपको बता दें की इस होस्टिंग में सबसे ज्यादा पसंदीदा प्लान Shared hosting plans है जिसने प्राइस $8.99 से $24.99 हर महीने के है। इसके अतिरिक्त कई सारे सेवाए साथ में मिलते हैं। इन प्लान को ऐसे बनाया गया है की जब आपकी वेबसाइट पर भारी संख्या में विजीटर्स आए तब भी कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा इस होस्टिंग पर।

Managed WordPress hosting plans भी A2 Hosting अपनी सेवाओं में शमिल करती है जिसे मुख्य WordPress के लिए बनाया गया है। $ 28.51 हर महीने के हिसाब से ये प्लान स्टार्ट होते है।

Virtual Private Server यानी VPS hosting आपको जब सर्वर की जरूरत हो इस समय खरीद सकते है। $5 हर महीने के हिसाब से प्रारंभ होते है।

बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers

Cloud hosting high speed प्रदान करने एवं अन्य सेवाओं के लिए प्रचलित है।

A2 Hosting Plans

a2 hosting plans

अब ये बताए गए A2 Hosting products के अंतरागत प्लान के अंदर मौजूद फीचर्स को नीचे तालिका में दे रहे –

फीचर्सStartupDriveTurbo BoostTurbo Max
भंडारण100 GBअ सीमितअ सीमितअ सीमित
Max. number of Inodes600, 000600, 000600, 000600, 000
Bandwidth Simultaneous HTTP connections अ सीमित  15अ सीमित 50अ सीमित 50अ सीमित 50
Allowed websites1अ सीमितअ सीमितअ सीमित
Databases5अ सीमितअ सीमितअ सीमित
WordPress, Prestashop and Magento caching systemनहीनहीहांहां
Support24×7 hours24×7 hours24×7 hours24×7 hours
HTTP/3नहीनहीहांहां
PerformanceRegularRegularTurboTurbo
बैकअपनहीFree Auto. बैकअपFree Auto. बैकअपFree Auto. बैकअप
Resources 0.7 RAM1 core1 GB RAM2 cores2 GB RAM2 cores4 GB RAM4 cores
Money Backगारंटीगारंटीगारंटीगारंटी

ब्लूहोस्ट क्या है Bluehost Hindi Review

ए2 होस्टिंग के फायदें और नुकसान A2 Hosting Pros & Cons

Pros

  1. गजब की Fast Loading Speed आपको A2 होस्टिंग Best Web Hosting मिलती है।
  2. Web Hosting Plans में मुफ्त SSL Certificate, Hack Scan, Free Cloudflare CDN आदि।
  3. A2 को अपनी Hosting Services विश्वास पात्र है। Money Back Guarantee भी है।
  4. A2 Optimize WordPress से Site Performance को Improve की जा सकती है।

Cons

  1. Free में Domain Name नहीं मिलता हैं।
  2. Web Hosting Renewal Price काफी ज्यादा होते हैं

समापन : पेज पसंद आया हो तो कॉमेंट कर एवं अन्य जरूरत मंद दोस्तों को भेजे। जैसे की हमने आपको ऊपर विश्वास डीकाउंट की बात कही थी आप हमसे संपर्क करें हम आपको बेस्ट डिस्काउंट प्रदान करवा देंगे।

वेब क्रॉलिंग क्या है Web crawling kya hai

वेब क्रॉलिंग क्या है – Web crawling kya hai

जब आप किसी वेबसाइट को बनाएं है उस समय इसे सर्च इंजन में रैंक करना थोड़ा मुस्कील होता है। चाहे हो गूगल सर्च इंजन हो या बिंग या याहू हो आपको SERPs (Search Engine Results Page’s) के पहले पेज तक रैंक करना जरूरी होता है। तभी आपकी वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक आता है।

इसलिए हम इसी में जो की क्रोलिंग की बेसिक प्रक्रिया है उसको जानने वाले हैं। और इस पेज पर जानेंगे की Web Crawling क्या है. Web Crawlers कैसे काम करती है? ऐसे कई सवाल को आप इस पोस्ट में जानने वाले है।

Web Crawling kya hai

आपको पता ही होगा की इस वर्ष में बहुत भारी मात्रा में इंटरनेट यूजर्स की संख्या बड़ रही है और आगे भी इसका ही जमाना आने वाला है। ऐसे में गूगल और बिंग दोनो ही खोज इंजन में अंदर रैंकिंग और Web Crawlers के तरीके को बदला जा रहा है, एवं उन्ही वेबसाइट को शीर्ष में दिखाया जा रहा जो यूजर्स को सही जानकारी मुहैया करा रही।

यदि आप गूगल के ब्लॉगर का इस्तेमाल कर रहे है और आप चाहते हो की वर्डप्रेस वेबसाइट की ओर बढ़े। लिखी आप होस्टिंग और डोमेन के लिए परेशान हो रहे की कहा से ले तो आप हमारे बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers के पेज को पढ़ सकते है। और फिर भआई आपको कोई समस्या आ रही है तो आप हमसे संपर्क करें ताकि आपको हमारी टीम सही होस्टिंग परचेज करने में सहायक हो।

आपको बता दे की जब आप अपनी वेबसाइट को Google में सबमिट या पब्लिक करते है। तो गूगल सबसे प्रथम कार्य आपकी वेबसाइट को Crawling द्वारा ही परखता है। और इस Crawling में आपके कंटेंट की भी जांच परख होती है।उसके बार गूगल आने निर्णय अनुसार SERPs (Search Engine Results Page’s) में आपके पोस्ट या पेज को रैंक करने प्रारंभ करती है।

यदि कोई भी वेस्ट सही रूप से Web Crawling के नियमों को पालन करती है और उस पर मौजूद हर पोस्ट को सही तरीके से क्रोल किया का रहा इसका मतलब के वह अच्छे से अपने Web Crawling को संभाले हुए है। अब नीचे हम आपको बताने वाले है की Web Crawling kya hota hai, आपके पोस्ट के SEO में Web Crawling क्या महत्व रखता है। Google के कौन से Ranking Factors Crawling करते है। ऐसे कई जानकारी के लिए अपना पढ़ना जारी रखे।

Web Crawling क्या है? 

जब भी इंटरनेट के सहारे गूगल पर कोई यूजर कुछ भी खोजता है । तो गूगल के बोट्स अपने Google server के database में संग्रहित सूचनाओं या अपडेट्स को यूजर के लिए निकलकर लाता है। ये सभी Relevant होते है। जो परिणाम यूजर्स के सामने दिखाई देते है इस समय की इस प्रक्रिया को Web Crawling कहते है। ओर जो जानकारी Search करते है, उन उपक्रम को Web Crawler , Spider या Bots बोलते है।

अन्य भाषा में Crawling का अर्थ है Particular रास्ते से अनुसरण करना । आप वेबसाइट पर जब वेब पेज पर किसी भी लिंक से जाते है चाहो वो Internal linking हो या External linking हो। तब Google के Web Crawler उन्ही के जरिए आपकी वेबसाइट तक पहुंच मार्ग बनते है। और Indexing प्रक्रिया हेतु उत्सुक रहते है। एक बार जब Indexing प्रोसेस पूरी हो जाती है तब SERPs में रैंक होना प्रारंभ हो जाता है।

अगर आप नवीन ब्लॉगर्स में से हो तो आपको अपनी रैंक में slow rank की समस्या होगी। उस समय आप Sitemap का अच्छे से बनाए क्योंकि इसमें आपके वेबसाइट के हर पेज के लिंक्स होते है। और गूगल के डायरेक्ट साइटमैप भी सबमिट कर सकते है।

SEO में Web Crawling क्या महत्व रखता है।

वेबसाइट का SEO का भाग बहुत जटिल है लेकिन फिर भी हम कुछ न कुछ हर किसी को आता है। SEO का मतलब है search engine optimization। जब आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के ऊपर SEO को गुणवत्ता वाला भाग निर्मित करते है तब आपको वेबसाइट उच्च परिणाम एवं Organic traffic को पाने में सफल रहती है।

Web pages को Crawling की स्थिति में गूगल के लिए ready कही जाती है। क्योंकि Website को रैंक कराने के लिए Crawling सबसे पहला स्टेप है।

आपको बता दें की किसी भी Pages की crawling अच्छी रहती है तब On Page SEO और Off Page SEO द्वारा व्यक्त करते है। यदि किसी पेज को क्रोलिंग नही करना हो उस समय आप No Index Meta Tag को इस्तेमाल करते है। Web Crawling में एस ई ओ और Crawlers दोनों रहकर काम करते है।

Web Crawlers कैसे काम करते है?

ऊपर की ओर अपने जाना की Google Crawling क्या है और SEO के अंदर क्या महत्व है। उसके बाद अब हम आपको Web Crawlers कैसे काम करते है उन्हें जानने की चेष्ठा करते है मान लीजिए की आप अपने किसी पेज को गूगल SERPs टॉप पर रैंक कर रखी है। उस पर दैनिक रूप से visitors आते है। और उससे आपके web pages को अच्छे खासे विजिट्स मिलते है।

ऐसे में जब कोई नए विजीटर्स को आपके अलावा अच्छा कंटेंट मिलता है तो वह इसे वह पर रैंक करने के लिख अभी कभी परिणामों में शमिल करते है। जिसके बाद यूजर्स के अच्छे अवसर मिलने से एवं वह रैंक होने के चांस राहत है। इसके लिए Google Search Engine पर उपलब्ध एवं सबमिट करना एवं अपने पुराने pages को जब आप अपडेट करता है Crawlers इस समय जिम्मेदार से कंटेंट की जांच करते है।

और अपने crawler crawling की साधारण प्रक्रिया को प्रारंभ करते है। Web crawler search queries के Google Search Console सबमिट यूआरएल के अनुसार ही मुख्य relevant pages को आपस में कंपेयर करके रैंक अनुसार जमाया जाता है।

यदि अभी भी आपको समझ नही आ रहा है तो कोई बात नही एक उदाहरण से बताते है। मान लो कोई User गूगल के खोज इंजन में टाइप करता है की “गूगल किस देश की कंपनी है” । तो उसी समय Web Crawlers “गूगल किस देश की कंपनी है” के जैसे रिलेटेड पेज के Meta Description, Heading (H1, H2), Hyperlink, Passage Indexing आदि में search करना प्रारंभ कर देता है। और जो परिणाम एकदम relevant होता है उन्हें आपके सामने क्रम से प्रस्तुत करता है। Google उन्ही परिणामों को user को दिखाता है Web Spiders के यह क्रिया बहुत कम समय में या यू कहे की मिनी सेकंड्स में परिणाम दिखाने होते है। इसलिए web page Crawl करने का मान कंटेंट पब्लिक होने के समय ही करवा लिया जाता है। और उसे particular जगह एवं कीवर्ड पर जगह प्रदान कर दी जाती है। आपको बता दें की जब भी page की Crawling करने के बाद फिर कब उस Updated web page को crawling करना यह सब policy पर निर्भर करता है।

Crawling के कुछ Ranking तथ्य

Ranking में Crawling को कैसे Affect करते है और ये तथ्य आपकी वेबसाइट को प्रभावित रूप से कार्य करने में मदद प्रदान करते है। जैसे की आपको तो तक है की इंटरनेट पर कई millions वेबसाइट उपलब्ध है। लेकिन websites Google के Crawling और Indexing उन्ही को करता है जो बहुत ही यूनिक और रिलीवेट हो। आपको यह जानकर दुख हो सकता है की अधिकतर नए लोग अपना अनुभव को ज्यादा समान तक न रखकर वे सिर्फ 3 से 4 महीने में अपने वेबसाइट को बंद कर देने है । उन्हें लगता है की अब कुछ नही हो पाएगा । लेकिन यह उनकी गलती है। वे अपने websites search engine result page पर rank ही नहीं कर पाते है। आपको बता दें की उन्हें हमारे ये कुछ नीचे दिए गए Ranking Factors पर कार्य करने की जरूरत है जिसके बाद आप गूगल के परिणामों ने आपकी वेबसाइट दिखाई देना प्रारंभ कर देंगी। ये कुछ नीचे है –

1. XML Sitemap

यदि आप किस वेबसाइट को WordPress पर बनाते है उस समय XML Sitemap जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। आप जब एक बार सही Sitemap generate कर लेता है उस समय आपको कुछ बदलाब या साइटमैप की छेड़खानी नही करना है। यह Automatic update होता रहता है।

और आपको बता दें की Website update सभी होने से Web crawlers sitemap को आसानी से crawl और रैंक करने में मदद करते है।

2. Robots.txt

आपके वर्डप्रेस पर Robots.txt file को जरुर तैयार करे एवं अपने क्योंकि यह सभी Web crawlers को सही रूप से आदेश देती है। किसी किस किस पेज को या पोस्ट को bots द्वारा अनुमति दी गई है। Neil Patel का यह मानना है की Bots से ही Crawling का कार्य होता है। कोई भी Bots या crawler सबसे पहले इसी फाइल के अनुसार करती है। जब इसका आभाव होता है तो उस समय वह अपने हिसाब से क्रोलिंग प्रक्रिया करते है।

3. Internal Linking

जब आप अपने पोस्ट को किसी अन्य पोस्ट के साथ लिंक द्वारा जोड़ा जाता है । तो वह Internal Linking होता है। आपको बता दें की इसे deep Linking भी बोलते है। जब crawlers आपके पोस्ट को crawl कर रहे हो एवं उसमे आने वाली लिंक्स के भी अनुसरण करके संबंधित पेजेस तक पहुंचते है। जिससे उन्हें भी रैंक मिलती है।

जब रैंक मिलती है तो ट्रैफिक भी बढ़ता है। और वेबसाइट पर विजीटर्स एवं क्रेलर के विश्वास को भी जीता जाता है।

4. Backlinks

जब आप अपनी वेबसाइट के लिए किसी अन्य वेबसाइट से लिंक लेते है तो आपको Backlinks मिलते है। जिससे आपकी साइट की value बढ़ती है।

कभी कभी आपकी वेबसाइट पर कोई भी backlinks का न होने से भी आपकी website Search Engine में रैंक नही हो पाती है।

Web Crawling kya hai: निष्कर्ष

आपने यह पेज पर Web Crawling kya hai ? के संबंध ने कई सारे शब्दों में तथ्यों के अनुसार किए। यह आपको कैसा लगा कॉमेंट में बताए एवं अन्य दोस्तों को भी पहुंचाए। ताकि वे भी Web Crawling को जान सके। क्योंकि आज कल इंटरनेट पर हर कोई खोजता रहता है।उन्हें ऐसे ज्ञान होना जरूरी रहता है।

ब्लूहोस्ट क्या है Bluehost Hindi Review

ब्लूहोस्ट क्या है Bluehost Hindi Review

आज के इस Bluehost होस्टिंग प्रोवाइडर वेबसाइट के बारे में जानेंगे की क्या हैं  इस पर हिंदी रिव्यू के साथ Pros & Cons बिंदुओ पर भी चर्चा करते हुए। पेज को समापत करेंगे। एवं Bluehost होस्टिंग के फायदे एवं कोनसा प्लान नए यूजर्स के लिए बेस्ट है। यदि आप ये सभी जानने के लिए उत्सुक है तो अंत तक पढ़ते रहे!

आपको बेस्ट होस्टिंग प्रोवाइड करने वाली प्रमुख कंपनियों में जो दुनिया भर में प्रचलित है। ऐसे पॉपुलर Web Hosting Companies है। एवं आपको हम बता दें की यह अन्य Web Hosting की Comparison में काफी अच्छी और कम दाम के होस्टिंग सुविधा उपलब्ध करवाने वाली है। इसलिए हमारी टीम ने इस Bluehost बारे में Hindi Review लिखा हैं जो आपके लिए काफी मददगार हो सकता हैं।

Bluehost Web Hosting के फीचर्स एवं गुण के कारण WordPress.org में इस होस्टिंग को Recommended की सूची में शामिल किया। क्योंकि यह अच्छी सुविधाओं को लेकर आपको वेबसाइट के लिए होस्टिंग प्रदान करती है।

आपको बता दें की कई आप गलत डिसीजन लेकर कोई गलत होस्टिंग प्लान का चुनाव न कर ले , इसलिए ये रिव्यू को पूरा अवश्य पढ़ें। अंतिम शब्दों में कुछ बेस्ट डिस्कॉन्ट प्राप्त करने एवं फ्री डोमन प्राप्त करने के लिए भी हमने बता है उन्हें पढ़कर जाए।

ब्लूहोस्ट क्या है Bluehost Hindi Review

हमारी टीम अपना अनुभव एवं Experience के अनुसरण करते हुए Bluehost Hindi Review India को रच रही है।तो आप तैयार हो जाए इस सस्ती और अच्छी Web Hosting को अपने बजट में खरीदने के लिए।

नीचे कुछ ही शब्दों के बाद Review में Bluehost के बारे ने जानने हेतु शब्द आने वाले है । Bluehost Web Hosting को खरीदने की Step by Step Process और Bluehost क्या है? इसके फायदे और नुकसान, इसके Best Features को बताते हुए। हम Bluehost होस्टिंग Plan’s और Price को जानते हुए बढ़ेंगे।

उससे पहले बता दें की हमने हमारे वेबसाइट पर 5+ बेस्ट होस्टिंग के बारे में भी पोस्ट लिखा है उसे अवश्य पढ़ें। और आने अनुसार होस्टिंग कंपनी का चुनाव करें। > बेस्ट 5 होस्टिंग नए ब्लॉगर्स के लिए Best 5 Cheap Hosting For Beginner Bloggers

Bluehost के सबसे सस्ते प्लान Bluehost Best Plan’s

हमारी टीम में Bluehost के हर प्लान को Bluehost Web Hosting के बड़े में जाना और उसकी वेबसाइट के अनुसार से प्राप्त किए है। आप को हम नीचे बताए तालिका अनुसार आप अपने बजट अनुसार प्लान के चयन करे एवं अपनी वेबसाइट को गति दें।

तालिका में हर तरह के प्लान को प्रति महीने आने वाली आय को लागत को भी बताया हैं ताकि आपको खरीदते समय एवं बजट ज्ञान से परिपूर्ण करने में आसानी रहे।

S. No.Bluehost Web HostingPlan Price प्रति महीने
1.Shared Hosting₹199 – ₹859 हर महीने
2.VPS Hosting₹1159 – ₹3659 हर महीने
3.Dedicated Hosting₹6499 – ₹10499 हर महीने
4.WordPress Hosting₹199 – ₹299 हर महीने
5.WP Pro₹1259 – ₹3059 हर महीने

ब्लूहॉस्ट क्या है Bluehost kya hai

ब्लूहोस्ट , वेबसाइट के लिए Web Hosting प्रदान करवाने वाली प्रचलित Companies में से मुख्य है। ये आपको बेहरीन होस्टिंग को कम कीमत या कम बजट ने प्रदाय करने के लिए अहम हैं। इसकी 2003 में शुरुआत से ही बहुत विश्वास एवं मानवता के कारण ही एवं अन्य सेवाओं से दो मिलियन से अधिक साइट्स को इस पर बनाया जा चुका है और होस्ट करके सफलता से चलाया भी जा रहा हैं।

WordPress.org आपको इस वेब होस्टिंग को Recommended भी करती है। Standard Performance और Website Speed प्रदान करने वाले गुण इसे अग्रणी बनाते है।

जैसे की आपको पता ही होगा की जब आपको वेबसाइट तेजी से Fast speed में लोड होती है तो Search Engine में आपको काफी अच्छी परिणाम मिलते हैं।

आपको 24×7 के लिए Customer Support भी मिलता है जिससे आपको आने वाले तकनीकी समस्याओं से निजात पा सके। हम लेख के नीचे बेहतरीन Discount वाले प्लान को देंगे जो अंतिम क्षणों में बताया जाएगा तब तक इस Bluehost के हिंदी रिव्यू को पढ़ते रहें।

ब्लूहोस्ट कोन कोन सी Web Hosting सेवाए देता हैं : Bluehost Web Hosting’s Provide

हमारी टीम आपको बताते हुए समस्त चरणों को पूरा इसे Bluehost Hindi Review को पूर्ण करने के लिए आतुर हैं। हम आपको बता दें की ब्लू होस्ट आपको दो प्रकार की सेवाए जिनमें Hosting और WordPress को शामिल किया गया है। तो दोस्तो क्या आप तैयार है क्रम से होस्टिंग एवं वरप्रेस को जानने के लिए।

Hosting

Bluehost के मुख पेज पर आने के बार होस्टिंग ऑप्शन को चुनते है तो आपको तीन अलग अलग तरह के होस्टिंग प्लान दिखाई पढ़ते है। Shared Hosting , VPS Hosting तथा Dedicate Hosting हम नीचे इन सभी को क्रम से जाने!

Bluehost Hindi Review home page hosting

1. Shared Hosting

नए एवं जो अभी अभी आना कोई वेबसाइट को सुरु करने का सोच रहे है उन्हें लिए ये होस्टिंग बहुत अच्छी साबित हो सकती है। इसमें आपको अच्छा खासा डिस्काउंट भी मिलता है जिससे प्राइस काफी कम हो जाता है। इस Shared Hosting के अंतर्गत चार प्लान मौजूद हैं Basic, Plus, Choice Plus तथा Pro। इन सभी के अंदर मिलने वाली कुछ सुविधाओं को नीचे तालिका में देंगे –

FeaturesBasicPlusChoice PlusPro
Website1अ सीमितअसीमितअसीमित
SSD Storage50 GBअ सीमितअसीमितअसीमित
Band widthअ सीमितअ सीमितअसीमितअसीमित
SSL Certificateफ्रीफ्रीफ्रीफ्री
Free Domain1अ सीमितअसीमितअसीमित
Free Daily Website Backupनहीनहीहांहां
Automatic Daily Malware Scanहांहांहांहां
Dedicated IPनहीनहीनहीहां

2. VPS Hosting

VPS होस्टिंग प्लान में आपको तीन तरह के Standard, Enhanced, तथा Ultimate प्लान ऑनलाइन होस्टिंग हेतु मिलते हैं। VPS यानी Virtual Private Server आपको वेबसाइट पर आने वाले भारी ट्रैफिक को भी संभाल सकती हैं। यदि आप VPS Hosting को चुनना चाहते है तो आपको इस होस्टिंग में मिलने वाले Features को अवश्य पढ़ना चाहिए, सभी Features को तालिका में दे रहे –

S. No.सेवाएंStand – ardEnhancedUltimate
1.Core224
2.SSD संग्रहण30 GB60 GB120 GB
3.Band width1TB2TB3TB
4.Ram2 GB4 GB8 GB
5.IP Address122
6.Free डोमेनहांहांहां
7.24/7 Supportहांहांहां

3. Dedicated Hosting

आपको एक पूरे सर्वर के रूप में Dedicated Hosting मिलती है। आपको बता दें की VPS Hosting से बढ़कर यह सुविधा है। आपको बता दें की यह पूरा आपका सर्वर होता है और पूरी Privacy भी आपके पास रहती है। अपने सर्वर को अपने कंट्रोल में कर सकते हैं।

Dedicated सर्वर आपको बहुत से Features देता है। जिनमे से कुछ नीचे तालिका में –

S. No.सेवाएंStand – ardEn – hancedPremium
1.Core8 Cores @ 2.20 GHz8 Cores @ 2.20 GHz8 Cores @ 2.20 GHz
2.SSD Storage500 GB1 TB1.5 TB
3.Bandwidth5 TB10 TB15 TB
4.Ram8 GB16 GB30 GB
5.IP Address345
6.Free Domainहांहांहां
7.24/7 Supportहांहांहां

ऊपर आपने Hosting के अंतर्गत आने वाले तीनो प्लान को एवं उनके अंदर मिलने वाले Features का अनुसरण किया आशा है। आप आगे आने वाले WordPress ऑप्शन के होस्टिंग के प्लान को भी अवश्य जानने के लिए उत्सुक होंगे।

तो चलिए अब WordPress hosting के बारे में जानकारी प्राप्त करें.

WordPress

जैसे ही आप होम पेज पर वर्डप्रेस वाले ऑप्शन का चयन करते है। आपके सामने दो अलग होस्टिंग प्लान आयेंगे। जिनमे WordPress Hosting और दूसरा WP Pro है। हम दोनो को क्रम से जानने एवं उनके अंदर आने एल अतिरिक्त सुविधाए या छूट को देखें –

Blue hosting wordpress hosting

1. WordPress Hosting

स्पेशली WordPress के लिए तैयार किया गया Bluehost का ये होस्टिंग प्लान उपयुक्त है। इसके अंर्तगत तीन तरह के Discount के लिए उत्सुक प्लान है।  ये सभी आपको वर्डप्रेस वेबसाइट को Speed प्रदान करके स्थापित करने में मदद देते है। Basic, Plus तथा Choice Plus प्लान WordPress Hosting के अंतर्गत तीन प्लान है जिनके कुछ Features उत्सुकता से नीचे की तालिका से देखे –

क्र.सेवाएंBasicPlusChoice Plus
1.Website1अ सीमितअ सीमित
2.SSD Storage50 GBअ सीमितअ सीमित
3.Databasesअ सीमितअ सीमितअ सीमित
4.WordPress Themes100+ Free100+ Free100+ Free
5.Free Domainहांहांहां
6.Free SSLहांहांहां
7.Free Website Backupनहीनहीहां
8.Free Site Migrationनही नहीहां

2. WP Pro

WP Pro आपको ब्लूहोस्ट में WordPress ऑप्शन पर जाने के बाद दिखाई पड़ता है यह कुछ pro प्रकार है है। इसमें आपको WordPress Hosting की बहुत शानदार सुविधाएं देखने को आती हैं।Optimize की प्रक्रियाएं भी अपने हिसाब से करें हेतु उत्सुक प्लान है।इस के अंतर्गत सुविधाए जिनका आनंद आप नीचे तालिका पड़कर लें –

क्र.सेवाएंBuildGrowScale
1.Jetpack Site AnalyticsBasicPremi  – umPro
2.Marketing Centerहांहांहां
3.Malware Detection & Removalहांहांहां
4.WordPress Themes100 + फ्री100 + फ्री100 + फ्री
5.Free डोमेनहांहांहां
6.BackupDaily  बैकअपDaily बैकअपअसीमित बैकअप & स्टोर
7.Video Compressionनही10 GBअसीमित

ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के अंतर्गत 5+ सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं Bluehost Web Hosting 5+ Best Features

आपने अपना अमूल्य समय को यह तह आकार हमारी वेबसाइट को दिया है तो इसके लिए हम आपके धैर्य और पढ़ें को क्षमता की सराहना करते हैं। आगे आपको हम 5 से ज्यादा ऐसे ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के तहत आने वाली सुविधाओं पर विस्तृत चर्चा करने वाले है जिसे हमारी टीम द्वारा बड़ी धैर्य और संयम से सजाया हैं –

1. मुफ्त डोमेन

आपको यह तो पता ही होगा की डोमेन आपकी वेबसाइट के लिए कितने जरूरी होते है। और Bluehost की यह सेवा आहूत सराहनीय है की वह आपको कई प्लान्स के अंतर्गत मुफ्त में डोमेन रजिस्टर्ड करने के लिए सेवा देती हैं।

आपको बता दें की अगर आप Plus Plan या Choice Plus Plan या फिर Pro Plan खरीदते है तो आपको फ्री में कई डोमेन को लेने की सेवा है। इसके अलावा भी बहुत कुछ है।

2. मुफ्त SSL Certificate

आपकी वेबसाइट के अंतर्गत आने वाले विजीटर्स के ऊपर विश्वास को हासिल करने एवं अमानवीय व्यवहार वाले लोगो से बचने के लिए SSL Certificate जरूरी यह ओर ब्लूहोस्ट अपने बजट के प्लान में भी मुफ्त SSL Certificate प्रदान करता है जिससे SSL Certificate हेतु अतिरिक्त व्यय नही होता।

Search Engine के अंतर्गत Websites को Rank प्रदान करने में जो Website SSL Certificate का इस्तमाल होता हैं।

3. SSD संग्रहण

आपको बता दें की SSD संग्रहण में आपको बहुत ज्यादा स्पीड प्रपात होती है और आपका डाटा तेजी से यूजर तक पहुंच मार्ग बनाता है। आपको प्लान में SSD Storage आसानी से मिलता है कई प्लान में आपको असीमित भंडारण क्षमता मिलती हैं। एवं Basic Plan के अंतर्गत 50 GB SSD Storage दिया जाता हैं।

4. Money Back Guarantee

Bluehost आपको अपनी सुविधाओं को की होस्टिंग से अनुसरण रखती है के अंतर्गत आपको 30 दिन के अंदर पैसे वापस या Money Back Guarantee या Refund कराया का सकता है।

आप ऐसा तक कर सकते है जा आपको ब्लू होस्ट की होस्टिंग में कोई समस्या आ रही है। या आपको यह पसंद ना आए इस स्थिति में प्रारंभिक 30 दिवस में आप Refund पा सकते है।

5. असीमित Bandwidth

आपको बता दें की जब आपकी वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफिक या विजीटर्स के संख्या भारी रहती है। उस में आपको अधिक Bandwidth की जरूरत रहती है। ऐसे में ब्लूहोस्ट के कई प्लान आपको होस्टिंग सर्विस में अनलिमिटेड Bandwidth मिलती है।

आपको बता दें की अधिकतर Web Hosting कंपनी सीमित मात्रा में Bandwidth देते है। लेकिन जानकारी खुशी होगी की Web Hosting के Basic Plan में Unlimited Bandwidth का ऑप्शन मिलता है।

6. Automatic Daily Malware Scan

इंटरनेट पर कई सारे अमानवीय व्यवहार करने वाले Malware या वायरस उपलब्ध है। जिनसे आपको वेबसाइट को क्षति पहुंच सकती है। उन्हें ब्लूहोस्ट द्वारा जांचकर हटाने के प्रक्रिया प्रतिदिन की जाती है। और यह प्रक्रिया ऑटोमेटिक सिस्टम पर आधारित है जिसके कारण आपको वेबसाइट सुरक्षित रहती है।

तो अपने ऊपर कुछ 5+ ऐसे बेस्ट ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के अंतर्गत सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं देखे आपको अब हम इसके अतिरिक्त मिलने वाली कुछ सेवाओं को बताते है।

ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग की अतिरिक्त सुविधाएं Bluehost Web Hosting Additional Features

जैसे की आप इस पेज पर Bluehost Hindi Review को पढ़ रहे है, ब्लू होस्ट के हर अतिरिक्त सुविधाओं को जानने और समझने का पूरा हक है। हमारे द्वारा निकाले गया कुछ अन्य Additional Features (अतिरिक्त सुविधाओं) को नीचे बताए गया ।

1. Domain

Bluehost में आपको Domains का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा। उसे चुनने पर जो पेज आयेगा  वह आप अपनी किसी वेबसाइट हेतु Domain Name Search करने के लिए सर्च बॉक्स में लिखें!

Blue hosting domain search page

आप जिस भी डोमेन को सर्च करते गई वह यदि उपलब्ध होगा तो आप उसे खरीद पाएंगे । और वह आपको प्राइस भी लिखा हुआ दिखाई पड़ेगा।

जब भी आप डोमेन को खरीदने के लिए तैयार हो आपको Add to Cart पर जाना है और यह से पर Additional Benefits भी पा सकते है। Auto Renewal ऑप्शन से आप Domain Expire से बच सके है एवं  Domain Lock जैसे Support मिलता हैं।

2. Online Store

eCommerce Website से आप ऑनलाइन स्टोर प्लान को ले सकते है Online Store में दो तरह Plan Available हैं, Standard और Premium है।

According Fully Customize भी कर सकते हैं। Customers से Payment लेने की सुविधा भी देता हैं।मुफ्त Domain , मुफ्त SSL Certificate, ऑटोमेटिक Daily Malware Scan, तथा वेबसाइट Traffic Analytics आदि। इसके साथ ही Customer Product Reviews, Custom Discount Codes और मुफ्त वेसाइट बैकअप इत्यादि Features भी मिल जाते हैं।

3. Email

Email के दो Plan Available जिसमे Business Plus तथा Business Pro है। दोनों Plans में आपको 1 TB Onedrive , Microsoft Office Online & 50 GB Email संग्रहण मिल जाता है। 24×7 Expert Support के साथ 99.9 % Uptime Guarantee जिसमे Automatic Update उपलब्ध है।

अब नीचे हम आके लिए Bluehost Web Hosting फायदे और नुकसान (Pros&Cons) बताने वाले है ।

ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के फायदे और नुकसान

केऐसे की हर चीज या होस्टिंग के फायदे और नुकसान दोनो हो सके हैं। तो अब हम आपको इस Bluehost Review में कुछ Pros&Cons से रूबरू करवा देते है। जो इंटरनेट एवं अन्य जगहों से इकट्ठा किए गया है।

ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के फायदे Bluehost Web Hosting Pros

आप Web Hosting खरीदने से पहले उस के अंतर्गत आने वाले Pros को पढ़ना चाहिए। ताकि आपको आने वाले दिनों में लाभ उड़ाकर उनके प्रयास कर सकें ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के कुछ Pros –

  1. आपको 1 वर्ष के लिए Bluehost Web Hosting लेने पर फ्री Domain मिलता है।
  2. मुफ्त SSL Certificate मिलता है जो रैंकिंग में और विजीटर्स के विश्वास को जीतने में मदद करता है।
  3. Beginner Bloggers के लिए Bluehost का user Interface सरल प्रदान करता है।
  4. 30 दिन के अंदर Refund के ऑप्शन ।
  5.  99.9 % Uptime Guarantee मिलती है।
  6. Bluehost के Plan के Price कम पर Discount भी मिलता हैं।

ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के नुकसान Bluehost Web Hosting Cons

आप Web Hosting खरीदने से पहले उस के अंतर्गत आने वाले Cons को जानना चाहिए। ताकि आपको आने वाले दिनों में परेशानी न हो उनके प्रयास कर सकें ब्लूहोस्ट वेब होस्टिंग के कुछ Cons –

  1. शुरुआत में पहले वर्ष मुफ्त डोमेन मिलेगा लेकिन उसके बाद Renewal के लिए पेमेंट करना होता है।
  2. Web Hosting Companies 1 Website को फ्री में Migration सुविधा देती है लेकिन यह सुविधा Basic और Plus Plan पर नहीं दी जाती।
  3. Bluehost के Renewal Price भी काफी High होते हैं।

Bluehost से Shared Hosting खरीदने का Step By Step Process

चुकी दोस्तों आपके ऊपर कई सारी जानकारी को ऊपर पढ़ लिया है। तो अब आगे Bluehost के Hindi Review में हम एक होस्टिंग को खरीदने का प्रोसेस बताते है। हम आपको बता दें की यदि आप नए ब्लॉग बना रहे है तो आपको Shared Hosting लेना चाहिए। क्योंकि VPS Hosting और Dedicated Hosting से काफी सस्ती है और बजट में सुविधाजनक है।

अब हम Bluehost से Shared Hosting लेने के कुछ चरण बताते है –

गूगल में सर्च करना है Bluehost.in फिर आप Bluehost की Official Website तक पहुंचे ।

वहां आप Hosting के ऑप्शन को चुन कर उसमे तीन ऑप्शन मिलेंगे।

उनमें से Shared Hosting को चुने।

Blue hosting Shared Hosting buy

Shared Hosting को चुनने पर चार प्लान आपके सामने Basic, Plus, Choice Plus तथा Pro मिलेंगे। हम वर्डप्रेस से द्वारा Choice Plan को बताया गया है। उसे ही चुने।

Blue hosting Shared Hosting plans

Choice Plus Plan को चुनने के बाद आपके सामने अन्य दो ऑप्शन आते है। Create a New Domain & Use a Domain You Own ।

Blue hosting Create a New DomainUse a Domain You Own

यदि आप Create a New Domain को चुनते है इसका मतलब है की आपके पास पहले से कोई डोमेन नही है और यदि Use a Domain You Own को चुनते है मतलब आपके पास पुराना कोई डोमेन हैं।

आप अपने अनुसार चयन करे जब आपके पास कोई डोमेन न हो तो आप पहले ऑप्शन को चुने फिर अंगे की प्रक्रिया को पूरा करें। और Account Create करके आप Sign in with Google ऑप्शन का चयन कर सकते है।और Google Account से जुड़ने के बार फिर एक अन्य Form को Fill करना होगा ।

जैसे ही आप फॉर्म को पूरा भरे Payment के ऑप्शन को सिलेक्ट करे  और अपने अनुसार पेमेंट करे । Terms & Condition बॉक्स को टिक करे।

ये प्रोसेस पूरी होने पर आपको ऑप्शन पर बवाना है।Submit ऑप्शन दबाना है लीजिए अब एक पास Bluehost की Shared Hosting आ गई है।कोई भी प्रोब्लम आए तो आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते है एवं होस्टिंग लेते समय हमारी टीम से सलाह भी मांग सकते है।

जैसे ही हमने ऊपर आपको विशेष डिस्काउंट प्राप्त करने के लिए बात की थी वह भी हमारी टीम हर किसी को प्रदान करवाती है इसके लिए आपको सिर्फ हमसे संपर्क करना होगा या कॉमेंट ने अपने संपर्क दें कई हम आपसे संपर्क कर पाएं।

FAQ ; Bluehost Hindi Review India

अपने अक्सर यह पाया होगा कोई हमारे दिमाग ने कोई न कोई सवाल या प्रश्न घूमते रहते हैं। ऐसे ही कुछ प्रश्नों को जो को Bluehost सुविधा संबंधित लोगो द्वारा पूछे गया है। वैसे हमने आपको पहले ही बता दिया है की Bluehost क्या है? एवं इसके अंतर्गत आने वाली होस्टिंग की सुविधाए और उनके अंदर के Features को ऊपर जान चुके है। अब कुछ महत्वपूर्ण Questions & Answer दिए हैं। जो नीचे हैं –

1. Hosting को क्यों Bluehost से ही लें?

Ans. वैसे 24×7 Customer Support और मुफ्त Domain, मुफ्त SSL Certificate मिले तो क्यों नही इससे होस्टिंग को लें। एवं आपको बता दें को Beginner को अपने बजट से प्लान का चुनाव करना पड़ता है क्योंकि उनके पास प्रारंभिक व्यय कम होता हैं।

Bluehost आपको Shared Hosting एवं अन्य प्लान पर बहुत से अच्छे अच्छे डिकाउंट प्रदान करवाता है इसलिए Bluehost से भी होस्टिंग लेना उचित निर्णय रह सकता है।

2. Bluehost की कौन सी Hosting लेनी चाहिए? WordPress Website के लिए WordPress Hosting या Shared Hosting?

Ans. आपको बता देन की आप WordPress वेबसाइट रन करना चाहते हैं तो आपको WordPress Hosting का चुनाव करना चाहिए क्योंकि या स्पेशल WordPress के लिए ही बनाती गया होस्टिंग हैं। WordPress Website में आपको कुछ अतिरिक्त सुविधाए वर्डप्रेस के लिए मिलते है जो हो सकता है आपको Shared Hosting के अंदर देखने को ना मिलें।

3. अपने स्माल Business के लिए कोनसी होस्टिंग खरीदें या चुनें। 

Ans. जब भी आप अपने छोटा Business को इंटरनेट तक लाना चाहते है आपको प्रारंभिक समय में Shared Hosting के प्लान से शुरुआत करना उचित है। क्योंकि इसके Price भी कम पर बजट अनुसार भी बनाया गया है।

और आपको Money Back Guarantee से आप 30 दिनों के अंदर परख सकते है की आपके Business के लिए यह सूटेबल है या नही । उस समय काल में परखने के बाद आप उसे रिफंड भी कर सकते है। और अपने पैसे ही वापस ले सकते है।

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है Mobile operating system kya hota hai in hindi

समापन शब्द ; यदि आपको यह पेज पर दी गई सुविधाओं में ब्लूहोस्ट की होस्टिंग के अंतर्गत जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया जिसे जरूरतमंद दोस्तों को भी व्हाट्सएप या फेसबुक से सहारे पहुंचाए। एवं अन्य कोई सवाल की स्थिति में संपर्क करे या कॉमेंट में शब्दों को छोड़ें!

कंप्यूटर की परिभाषा क्या है Computer ki paribhasha kya hai

कंप्यूटर की परिभाषा क्या है – Computer ki paribhasha kya hai

Computer ki paribhasha kya hai? ऐसे कई सारे सवाल लोग इंटरनेट एवं अन्य जगहों जैसे यूट्यूब चैनल के माध्यम से पहुंच कर पढ़ते हैं। कंप्यूटर दैनिक जीवन की जरूरत से हमारी जिंदगी का इस अहम हिस्सा बन गया है। उसके उपयोग के बिना अधूरी सी रह जाती है हमारी जिंदगी। तो आज हम इसी कंप्यूटर के बारे में जानेंगे और पढ़ेंगे।

कंप्यूटर की परिभाषा हिंदी में!

इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसे हम कई कार्यों के लिए इस्तेमाल करते हैं। हिंदी में बताए की गणक या संगणक भी बोलते है। इसकी गणना काल बहुत सरल एवं आसन है इसके लिए यह काफी अच्छी गति प्रदान करने में सक्षम है। चुकी इसका नाम अंग्रेजी के एक शब्द compute बना हुआ हैं जिसका मतलब अर्थ गणना करना हैं।

इसका इस्तेमाल अपने क्षेत्र की आसानी प्रदान करता है । इस पर कार्य को सरल किया जाता हैं। इनपुट डिवाइस से इसमें संदेश भेजे जाते हैं। एवं आउटपुट से इसके संदेशों को प्राप्त किए जाते हैं। सीपीयू में सभी क्रियाएं कार्य संपन्न होती हैं। निर्देश या सूचनाओं को मॉनिटर पर व्यक्त करते है, जो आउटपुट डिवाइस हैं।

कंप्यूटर क्या है। कंप्यूटर की फुल फॉर्म कंप्यूटर की विशेषताएं

अब सवाल यह है की इनपुट डिवाइस, आउटपुट डिवाइस, या प्रोसेस क्या है। तो घबराने की जरूरत नही ! नीचे वे सभी तथ्य आ रहे हैं।

इनपुट डिवाइस (Input Device) – निर्देश सूचना या अपने द्वारा दिए जाने वाले निर्देशों को इस इनपुट डिवाइस की मदद से ही कंप्यूटर में उतारा जाता हैं। जिससे की कंप्यूटर इस पर अपने गणना एवं अन्य स्रोतों से जानकारी इक्कठा करके आउटपुट प्रदान कर पाएं।

प्रोसेस (Process) – अपने अंदर मौजूद कुछ सॉफ्टवेयर से हार्डवेयर की मदद लेकर जब निर्देशों के अपने क्रिया करते हुए cpu पाने कार्य कर कर रहा होता है, वह प्रोसेस (Process) हैं।

आउटपुट डिवाइस (Output Device) – जब भी हमरे द्वारा दिए गए निर्देशों को कंप्यूटर पढ़ लेता है फिर वह उसके तरफ से रिजल्ट देने के लिए तैयार रहा है तो उन रिजल्ट के जिस डिवाइस पर दिखाया या प्राप्त किया जाता है वह आउटपुट डिवाइस हैं ।

कंप्यूटर में मौजूद दो प्रमुख बुनियादी घटकों

हार्डवेयर (Hardware) – हमरे निर्देश जा हम कीवर्ड से कंप्यूटर के अंदर फिट करते तो वह करिए जब भी संपन्न होती है तो वह किसी न किसी भौतिक उपकरण में यानी जिसे हम छू सके ऐसे डिवाइस में होती है। उस भौतिक डिवाइस को हार्डवेयर वाला भाग कहते है। इसे जब छूने की बात की है तो एक दिमाग कई कई उपकरण को कंप्यूटर के लगाते है उनकी छवि आ रही होगी जैसे हार्ड ड्राइव, माउस, सीपीयू, कीबोर्ड, स्क्रीन इत्यादि तो आप सभी महसूस कर रहे है। या सभी हार्डवेयर के भी भाग हैं, जिन्हे कंप्यूटर में लगाया गया है।

सॉफ्टवेयर (Software) – आपको बता दें की ऊपर जी हमने हार्डवेयर उपकरण पढ़े उनका कोई अस्तित्व नही है यदि सॉफ्टवेयर न हो। सॉफ्टवेयर के हम न ही देख सकते है और न ही छू सकते। उसे तो सिर्फ हार्डवेयर उपकरण पर रन किया जा सकता हैं। हमरे द्वारा दिया गए निर्देशों को सॉफ्टवेयर ही हार्डवेयर तह पहुंचता है एवं आगे की क्रियाएं इसी के अंतर्गत होती है। सॉफ्टवेयर के तहत ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन आते हैं। आपको बता दें की कंप्यूटर को सुचारू रूप से कार्य सिद्ध करने हेतु हार्डवेयर की जितनी जरूरत है उतनी है सॉफ्टवेयर की भी जरूरत होती हैं।

कंप्यूटर के प्रकार Types of computer

दोस्तों इतिहास में प्राचीन समय से कई अलग अलग प्रकार के कंप्यूटर को लाया गया है और समय समय पर अपडेट करके उन्हे नए स्वरूप में ढाला गया है। हम इन्हें कार्य करने की पद्धति या प्रणाली के अनुसार कंप्यूटर को नीचे दिया अनुसार तीन प्रकारों में बांटा गया है –

1.एनालॉग कंप्यूटर
2.डिजिटल कंप्यूटर
3.हाइब्रिड कंप्यूटर

1. एनालॉग कंप्यूटर (Analog computer) – पुराने समय से ही भौतिकी के मात्रकों के मापन में उपयोग में लाए जाते है। एनालॉग कंप्यूटर कहलाते हैं। तापमान, दाब, ऊंचाई, लंबाई जैसे उपक्रम की परिमाप निकलने हेतु ऐसे एनालॉग कंप्यूटर (Analog computer) के इस्तेमाल किया जाते हैं। एनालॉग कंप्यूटर विज्ञान एवं कई अन्य तकनीकों के हिसाब में बहुत ज्यादा क्षेत्र में अपनाते हैं। भौतिक विज्ञान की दशा में इसके फैलाव अधिक हैं।

2. डिजिटल कंप्यूटर (Digital computer) – ऐसे अंकों के गणनाओं हेतु डिजिटल तकनीक से बने कंप्यूटर का ही इस्तेमाल होता हैं। यकं मुख्य रूप से इनपुट और आउटपुट प्रदान करके अपनी क्रियाओं को समापन करे वह डिजिटल कंप्यूटर हैं। मशीनी भाषा या Binary Code (0, 1) के इस्तमाल इन्ही सब कंप्यूटर के प्रमुख भाषा हैं। आज कल सबसे अधिक डिजिटल कंप्यूटर के ही ज्यादा चलन एवं उपयोग हैं। डिजिटल कंप्यूटर के उपयोग ऑफिस, कॉलेज, स्कूल, दुकान, रेलवे, बैंक इत्यादि जैसे स्थानों या कार्य क्षेत्रों में इनके इस्तेमाल प्रमुख हैं। डेस्कटॉप, लैपटॉप, मोबाइल, डिजिटल घड़ी जैसे Digital computer’s के उदहारण हैं।

3. हाइब्रिड कंप्यूटर (Hybrid computer) – ऊपर बताए दोनों प्रकार के एनालॉग और डिजिटल कंप्यूटर की दोनों विशेषताएं हाइब्रिड कंप्यूटर में होती है। Hybrid computer अंको की गणना में इतने अधिक फास्ट है एवं आपको बता दें की ये मापन में भी सक्षम हैं। उदाहरण के तहत 1) जब आप कही अस्पताल में जाए तो वहां पर लगा हुआ कंप्यूटर हाइब्रिड कंप्यूटर होता है, जिसके द्वारा किसी भी पेसेंट के तापमान, ब्लड प्रेशर, धड़कन इत्यादि को मापा जा सकता है, और अंकों के स्वरूप में दर्शाते हैं। 2) पेट्रोल पंप में लगी हुई डिवाइस या मशीन भी हाइब्रिड कंप्यूटर होती है, जो पेट्रोल की मात्रा मापने के अलावा मूल्य भाव को भी गणना करके अंकों में दर्शाती हैं।

कंप्यूटर का आविष्कार Computer ka Abishkar

एक ब्रिटिश गणितज्ञ द्वारा 19वी शताब्दी में आविष्कार किया वह वैज्ञानिक या अविष्कारक Charles Babbage था। आज की सभी में हम चार्ल्स बेबेज को कंप्यूटर का जनक (Father of Computer) भी कहा जाता है।

कंप्यूटर का फुल फॉर्म अंग्रेजी इंग्लिश में अर्थ –

कंप्यूटर की साइपलिंग में आने वाले सभी केरेक्टर के अभी को अलग अलग अनुसार नीचे बताए गए –

C–Commonly , O–Operated , M–Machine , P–Particularly , U–Used For , T–Technical , E–Educational , R–Research .

कंप्यूटर की विशेषताएँ Computer ki visheshta

कंप्यूटर की विशेषताए क्या है? आज कंप्यूटर अपनी विशेषताओं के कारण ही मानव के अभिन्न अंग में से एक बन चुका है। मानव की जीवन श्रंखला कंप्यूटर के बिना अधूरी सीन दिखाई पड़ती है कई क्षेत्रों में कंप्यूटर विशेष रूप से कार्य कर रहा है। चाहे वह चिकित्सा के क्षेत्र की बात की जाए, चाहे कृषि के क्षेत्र की बात की जाए या फिर किसी भी अस्पताल या कोई गणना क्षेत्र में कंप्यूटर के इस्तेमाल की बात की जाए। हर जगह कंप्यूटर अपनी विशेषताओं को लिए हुए समाहित है आज हम कंप्यूटर की ऐसी कई विशेषताओं को इस के नीचे देखने वाले हैं –

1. बीना गलती के कार्य (Accuracy)

जैसे कि नाम से ही सिद्ध है कि गलती रहित कार्य त्रुटि रहित वर्क की विशेषता दोस्तों कंप्यूटर अपनी तेज गति के इसी के कारण बिल्कुल सटीकता से एवं बिना किसी गलती के हमें हमारे द्वारा दिए गए निर्देशों के परिणाम को बिल्कुल सही सही देता है। यह गुण इसका विशेष विशेषताओं में शामिल करता है। यदि मानव कोई गलती से गलत निर्देश दे ती वह गलत परिमाण दे सकता है लेकिन कंप्यूटर उसकी तरफ से किसी भी तरह के गलत रिजल्ट हमे नही देता हैं।

2. गति (Speed)

अपनी गति के लिए प्रचलित होकर आज के समय में यह सुपर कंप्यूटर के जमाने तक पहुंच चुका है। आज अपनी गति को कुछ ही सेकंड या और कहीं मिनी सेकंड में कई करोड़ों की गणना करने की क्षमता रखने वाला है। यह कंप्यूटर सबसे अधिक गतिशीलता से कार्य करने के लिए उत्सुक है। हम आपको बता दें की 1 सेकंड में करीब 1 मिलियन निर्देशों को प्रोसेस कर सकता है। यह सुनकर आप अपने आप में शामिल हैं।

3. विशाल भंडारण क्षमता (Large Storage Capacity) 

अपने अंदर के अंतरिक भंडार (internal स्टोरेज)के साथ इसमें बाहरी भंडारण (external storege) क्षमता भी विद्यमान हैं। एवं यह बड़े से बड़े डाटा को अपनी उच्च गति एवं परिशुद्धता से इकठ्ठा करें में सक्षम हैं।

4. पुनरावृति (Repetition)

मानव द्वारा दिए गए निर्देशों को बार-बार कार्य कर विश्वसनीय एवं त्रुटि रहित कार्यों को तीव्रता के साथ प्रस्तुत करने के लिए एवं पुनरावृति करने में बहुत अहम उद्देश्य है

5. लगन (Diligence)

मनुष्य की बात की जाए तो यह है एक बार अपने काम को करके थक सकता है, या फिर कुछ समय बाद अपने मानवीय गुणों के कारण थकावट महसूस कर सकता है, लेकिन कंप्यूटर के साथ ऐसी बात नहीं है। कंप्यूटर बिना किसी आलस्य के पूरी लगन के साथ अपने कार्य को करने में सक्षम है। एवं मनुष्यों की तुलना में कई लाखों गुना अधिक गणनाओं को करने एवं परिशुद्धता के साथ परिणामों को प्रस्तुत करने के लिए यह विशेष गुण रखता है।

6. स्वचालन (Automation)

कंप्यूटर के अंदर मौजूद स्वचालित गुण या ऑटोमेटिक सिस्टम के कारण यह मानव द्वारा एक बार दिए गए निर्देशों के अनुसार अपने कार्य को पुनरावृति कर पूरी लगन एवं मेहनत से शुद्ध परिणाम आपके लिए प्रस्तुत करता रहता है। और यह स्वचालन की क्रिया जब तक मानव ना चाहे वह संपन्न करते रहता है। यह गुण इसका विशेष गुण की श्रेणी में आता है।

7. विविधता (Versatility)

कंप्यूटर अपनी विविधता एवं विभिन्नता के गुण के कारण यह कई अलग-अलग कार्यों को एक साथ कर पाने में सक्षम है। रेलवे की बात करें तो उसमें कई अलग-अलग काम बैंक की बात करें, तो बैंक में अलग-अलग कार्य को एवं मौसम संबंधित कई घटनाओं के परिकलन के लिए यह अपने अलग अलग गुणों को अलग अलग कार्यों को एक साथ कुछ ही सेकंड में करने के लिए तैयार रहता है, यह इसका विशेष गुण है।

8. गोपनीयता (Secrecy)

यदि आपको बॉर्डर में किसी फाइल को तैयार करते हैं। और उसमें अपने द्वारा पासवर्ड लगा देते हैं, तो यह आपकी गोपनीयता को बनाए रखने में सक्षम रहता है। आपके द्वारा बनाए गए पासवर्ड के अलावा यह किसी अन्य से नहीं ओपन हो सकता यह पूरी तरह से आप की गोपनीयता को बनाए रखने में बहुत अच्छे से सक्षम है। एवं यह अपनी गतिशीलता एवं अपने ऑटोमेटिक गुण के कारण स्वचालित रूप से कई क्रियाओं को करते रहता है। और मनुष्य को ज्यादा से ज्यादा सही परिणाम प्रदान करता है।

9. स्थायी भंडारण क्षमता (Permanent Storage Capacity)

कंप्यूटर के अंदर स्थाई भंडारण क्षमता होती है यह क्षमता कंप्यूटर के अंदर मौजूद किसी भी डाटा को यदि आपने उसके अंदर समाहित किया हुआ है तो उसे भूलने नहीं देती आप किसी भी समय उस डाटा को प्राप्त कर सकते हैं एवं उस स्टोरेज को आप कहीं भी इस्तेमाल कर सकते हैं उसे पुनः प्राप्त करने के लिए आपको भंडारण क्षमता में जाकर अपने डाट को सिद्ध करना आवश्यक है।

 

समापन शब्द: दोस्तों आज आपने इस पेज पर कंप्यूटर के बारे में बहुत सारी जानकारियां देखी उस में मुख्य रूप से बताया गया था कि कंप्यूटर क्या है। कंप्यूटर की फुल फॉर्म कंप्यूटर की विशेषताएं इसके अलावा भी आपने बहुत सारी चीजें इस पेज पर देखी, यदि आप हमारे द्वारा हमारे पेज पर दी गई जानकारी से संतुष्टि रखते हैं, तो कृपया कमेंट करके हमें बताएं।

एवं यदि आप चाहते हैं, कि किसी अन्य नॉलेज को इस पेज पर जोड़ा जाए तो उसे भी आप चाहे, तो हम तक पहुंचा सकते हैं आप किसी भी संदेह है। या बातचीत के लिए हमसे संपर्क कर सकते हैं। एवं हमारी वेबसाइट को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सर्च कर सकते हैं। चाहे वह किसी भी तरह का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक हो व्हाट्सएप हो या ट्विटर हो आप हमारी वेबसाइट का नाम खोजें वहां आपको हमारे वेबसाइट के पेज एवं ग्रुप से दिखाई देंगे, उन में आप हम तक पहुंच सकते हैं।